उपचुनाव से पहले मध्य प्रदेश में कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, एक साथ 200 कार्यकर्ता भाजपा में हुए शामिल

1783

मध्य प्रदेश में सत्ता गँवा चुकी कांग्रेस को एक और झटका लगा है. पार्टी के करीब 200 कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस का हाथ छोड़ भाजपा का दामन थाम लिया. ये सभी कार्यकर्ता साँची विधानसभा सीट से थे. हाल ही में कांग्रेस छोड़ भाजपा में आए सिंधिया समर्थक प्रभुराम चौधरी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं की बीजेपी में एंट्री करवाई है. इस अवसर पर खुद मुख्यमंत्री शिव्राह सिंह चौहान और प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष वीडी शर्मा भी मौजूद रहे.

मध्य प्रदेश में 24 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना है. इन 24 सीटों में से 23 सीटों पर कांग्रेस का कब्ज़ा है. कांग्रेस को सत्ता में वापस लौटने के लिए इन सीटों पर जीत की सख्त जरूरत है जबकि भाजपा बागियों के सहारे कांग्रेस का खेल बिगाड़ने कीकोशिश में एड़ी छोटी का जोर लगाये हुए है. हालाँकि अभी इन सीटों पर उपचुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं हुआ है. लेकिन शाह मात का खेल अभी से ही शुरू हो चुका है. भाजपा की सारी उम्मीदें बागियों पर टिकी है.

हालाँकि लॉकडाउन में इस दल बदल ने विवाद भी खड़ा कर दिया. कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि भाजपा ने सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ाते हुए ये ड्रामा किया. मध्य प्रदेश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. ऐसे में ये दल बदल कार्यक्रम आयोजित कर के भाजपा कांग्रेस के निशाने पर आ गई है. पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कार्यक्रम की फोटो ट्वीट करते हुए कहा ‘शिवराज जी कल कोरोना की समीक्षा के दौरान नियमों के पालन पर आप प्रदेशवासियों को सख़्त चेतावनी दे रहे थे. प्रदेश में आमजन के लिये इस लॉकडाउन में शादी समारोह हो या गम हो, संख्या तय है. सभी आमजन नियमों का पालन भी कर रहे हैं, नियमों के उल्लंघन पर उन पर तुरंत कार्रवाई भी हो रही है. वही आपके भाजपा कार्यालय में आज लॉकडाउन में आपकी व अन्य ज़िम्मेदार भाजपा नेताओ की उपस्थिति में एक भीड़भरा कार्यक्रम आयोजित होता है , नियमो का जमकर मखौल उड़ता है. क्या मोदी जी के लॉकडाउन के नियम सिर्फ़ ग़रीबों , आमजन के लिये है , आपकी पार्टी के नेताओ पर यह नियम लागू नहीं होते है ?’