आ गया देश का सबसे बड़ा सर्वे, अभी चुनाव हुए तो भाजपा को मिलेंगी इतनी सीटें

1512

मोदी सरकार को दुबारा सत्ता में आये 7 महीने हो चुके हैं. इन सात महीनों ने सरकार ने बड़े बड़े फैसले ले कर सबको चौंका दिया. इन सात महीनों में देश के विवादास्पद मुद्दों पर संसद में बिल पास करा कर सरकार ने जाता दिया कि जनता ने उन्हें सालों से लटके मुद्दों को ख़त्म करने के लिए ही दुबारा पूर्ण बहुमत के साथ चुन कर भेजा है. तीन तलाक, आर्टिकल 370, CAA जैसे मुद्दे संसद के जरोये हल हुए तो राम मंदिर का फैसला अदालत के जरिये आ गया. सरकार के काम काज पर इंडिया टुडे ने देश का सबसे बड़ा सर्वे किया. इस सर्वे से पता चला कि देश का मूड क्या है? क्या देश की जनता मोदी सरकार के दुसरे कार्यकाल से संतुष्ट है?

देश में भले ही CAA और NRC को लेकर बवाल मचा हुआ हो, विरोध प्रदर्शन चल रहा हो लेकिन देश की जनता इस मुद्दे पर सरकार के साथ है. इंडिया टुडे और कार्वी इनसाइट्स द्वारा कराए गए Mood of the Nation Survey के मुताबिक देश की 41 फीसदी जनता CAA पर मोदी सरकार के साथ हैं जबकि विरोध में मात्र 26 फीसदी लोग हैं. सबसे आश्चर्य की बात तो ये है कि 33 फीसदी जनता को पता नहीं CAA का मुद्दा है क्या?

अगर बात करें NRC की तो विपक्ष और मुस्लिम आबादी भले ही NRC का पुरजोर विरोध कर रही हो लेकिन देश की 49 फीसदी जनता को लगता कि NRC लाना देश के हित में हैं. यानी कि 49 फीसदी जनता NRC पर सरकार के साथ है. 26 फीसदी लोग इसके विरोध में है जबकि 25 फीसदी लोगों ने इसपर कोई राय नहीं रखी. सबसे आश्चर्य कि बात ये है कि NRC को अल्पसंख्यक (मुस्लिम) विरोधी बताया जा रहा है लेकिन इस सर्वे में ये निकल कर आय अकी 32 फीसदी मुस्लिम आबादी को NRC से कोई डर नहीं है.

अगर इस वक़्त चुनाव कराये जाएँ तो NDA की कुछ सीटें घट सकती हैं. NDA को 303 सीटें मिल सकती है जबकि अकेले 303 सीटें पाने वाली भाजपा लुढ़क कर 271 सीटों तक पहुँच सकती है. यहाँ ये गौर करने वाली बात है कि अब शिवसेना NDA का हिस्सा नहीं है. लेकिन ऐसा नहीं है कि अगर NDA की सीटें घट रही हैं तो यूपीए बहुत फायदे में जा रही है. अगर अभी चुनाव करा लिए जाएँ यो यूपीए को मात्र 16 सीटों का फायदा होता दिख रहा है. तो इसका मतलब ये है कि जिस तरह से ये बताने की कोशिश हो रही है कि CAA और NRC के मुड़े पर देश मोदी सरकार से नाराज है. वो बात गलत साबित हो रहा है. देश की जनता को अब भी भाजपा और पीएम मोदी के चेहरे पर भरोसा है. और अगर अभी चुनाव हो जाएँ तो NDA लगातार तीसरी बार सत्ता में आ जायेगी.