देश में कोरोना की वर्तमान स्थिति के लिए संघ प्रमुख मोहन भागवत ने जानिए किसे ठहराया जिम्मेदार

देशभर में कोरोना से हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं. कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप पूरे देश में बरकरार है. ऐसा कोई दिन नही जा रहा है जब लाखों की संख्या में कोरोना के नए मामले सामने नही आ रहे हों और हज़ारों लोग अपनी जान न दे रहे हों जबकि कई राज्यों में लॉकडाउन लगा हुआ है. किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि भारत में कोरोना की दूसरी लहर इस तरह कहर बरपाएगी.

जानकारी के लिए बता दें देश में कोरोना के वर्तमान हालत को लेकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि ये समय परीक्षा का है और हम सभी को पॉजिटिव रहना होगा. उन्होंने साफ़ कहा कि कोरोना की पहली लहर के बाद सरकार और जनता दोनों ही लापरवाह हो गयी थी. यही वजह है जो देश के ये हालत हो गये हैं.

मोहन भागवत ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि ”हमें पॉजिटिव रहना होगा और मौजूदा परिस्थिति में खुद को कोविड नेगेटिव रखने के लिए सावधानियां बरतनी होंगी. वर्तमान परिस्थितियों में तर्कहीन बयान देने से भी बचना चाहिए. यह परीक्षा का समय है लेकिन हमें एकजुट रहना होगा और एक टीम की तरह कार्य करना होगा.”

गौरतलब है कि संघ प्रमुख ने आगे कहा कि सफलता और विफलता ही अंतिम नहीं है. इस समय हिम्मत जारी रखने का साहस मायने रखता है. उन्होंने कहा ”हम इस परिस्थिति का सामना कर रहे हैं क्योंकि सरकार, प्रशासन और जनता, सभी कोविड की पहली लहर के बाद लापरवाह हो गए थे. अब तीसरी लहर की बात हो रही है, लेकिन हमें डरने की नहीं, बल्कि खुद को तैयार करने की जरूरत है.” इसके आगे उन्होंने कहा हमें गुण दोष की चर्चा किये बिना एक टीम के रूप में काम करना है.