मोदी सरकार ने की ऐसी कारवाई,गिड़गिड़ाने को मजबूर है माल्या

389

देश का माल लूटकर भागने वाले लोग आजकल परेशान है। थोड़े बहुत नही बल्कि बहुत ज़्यादा।  
मोदी सरकार की तरफ से तेज़ी से की जा रही कार्रवाईओ के बलबूते भगौड़े टेंशन में है और उनकी रातों की नींद उड़ी हुई है।
ये हम नही बल्कि देश से भागे लोग खुद ऐसा कह रहे है।
देश से 9 हजार करोड़ लेकर भागे शराब कारोबारी विजय माल्या सरकार के एक्शन से इतने डरे हुए है कि उन्होंने एक साथ कई ट्वीट करते हुए अपने डर को जाहिर किया है।  माल्या ने ट्वीट करते हुए कहा कि भारतीय सरकार उनके साथ गलत कर रही है और हर सुबह जब वो सोकर उठते है तो उन्हें डीआरटी यानी कर्ज वसूली ट्रिब्यूनल की तरफ से नई सम्प्पति जब्त किए जाने की सूचना मिलती है। दुखी माल्या आगे लिखते है कि उन पर 9 हजार करोड़ लेकर भागने के आरोप लगे थे लेकिन अभी तक उनसे 13 हजार करोड़ से ज्यादा की सम्प्पति ज़ब्त की जा चुकी है।

उसने सरकार पर सवाल उठाते हुए पूछा है कि इतनी रकम वसूलने के बावजूद मुकदमा जारी रखना कितना सही है,हताश माल्या लोगो की सहानुभूति बटोरने के उद्देश्य से अपने ट्वीट में लिखता है कि अगर नौ हजार करोड़ लेकर भाग जाने का सरकारी एजेंसियों का दावा अगर सही मान भी लिया जाए तो डीआरटी की 13 हजार करोड़ की ज़ब्ती के बाद अब सरकारी क्षेत्र की बैंक नुकसान में कहां है ???  आखिर बैंक और भारतीय एजेंसियां जनता का पैसा वकीलों की फीस चुकाने में क्यो खर्च कर रही है ?
ये सब माल्या ने अपने ट्वीट में कहा है। इससे आप माल्या की हताशा को साफ तौर पर देख सकते है।जिस तरह से भारतीय एजेंसियां माल्या की गर्दन तक पहुँच चुकी है उसको देखते हुए सम्भव है कि जल्दी ही माल्या का ब्रिटेन से डिपोर्ट करके भारत लाया जाएगा।
वैसे अकेला माल्या ही क्यो बल्कि पीएनबी से 11 हजार 345 करोड़ रुपए लेकर भागे नीरव मोदी की भी नींद उड़ी हुई है। उसकी 637 करोड़ से ज्यादा की रकम वसूल भी की का चुकी है।

मेहुल चौकसी की भी करोड़ो की सम्प्पति जब्त की जा चुकी है इसके अलावा उसे भारत लाने की कोशिशें भी चल रही है।
90 करोड़ से ज्यादा के करप्शन मामले में फंसे दीपक तलवार के खिलाफ भी सरकार ने कड़ी कार्यवाई की है और उसे दुबई सरकार की मदद से गिरफ्तार करके भारत लाया जा चुका है।
अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर मामले में देश का माल लूट चुके राजीव सक्सेना को भी हाल ही में भारत सरकार दुबई से गिरफ्तार करके भारत लाया चुकी है।
अखबारों और टीवी को देखे तो ऐस हमे भगोड़ों के खिलाफ ईडी के एक्शन सम्बंधित कई खबरे पढ़ने और देखने को मिल जाएगी

ख़ैर,अगर माल्या सोशल प्लेटफॉर्म पर ये सब लिखके रहम के लिए गिड़गिड़ाने को मजबूर हुआ है तो इसकी पीछे की वजह कोई जादू नही बल्कि सरकार की तरफ से कुछ तो ऐसा पासा फेंका गया है जो उसने बेहद शातिराना तरीके से चलते हुए देश के भगोड़ों को नाको चने चबवा दिए है। अगर यही एक्शन जारी रहा तो उम्मीद है कि जल्दी ही देश के सारे भगोडे वतन वापिस लौटेंगे और लूटी हुई रकम को सूद समेत वापिस करने को मजबूर होंगे।