मोदी सरकार के सख्त कदमों के चलते गिड़गिड़ाने को मजबूर हुआ मेहुल चौकसी

333

मोदी सरकार आजकल फुल फॉर्म में है। भारत का पैसा लेकर भागे एक एक बन्दे को इतना परेशान किया जा रहा है कि वो गिड़गिड़ाने को मजबूर हो गया है। अभी कुछ दिनों पहले ही विजय माल्या अपने ट्वीट्स में कह ही रहा था कि ईडी ने उसे बुरी तरह से परेशान करके रखा हुआ है उसकी नींद खुलती है तो उसे अपनी संपत्ति जब्ती की सूचना मिलती है।  करोड़ो लेकर भागे राजीव सक्सेना और दीपक तलवार जैसे लोगों को भी भारत लाया जा चुका है। नीरव मोदी को अभी भारत लाना पॉसिबल नही हुआ तो उसका लन्दन पुलिस से ही तगड़ा ईलाज करवाया जा रहा है। मोदी सरकार की जबर डोज परेशान आदमियों की लिस्ट में नया नाम जुड़ा है मेहुल चौकसी का,सरकार की कारवाई के चलते वो अपने आपको निर्दोष बताकर रो रहा है, गिड़गिड़ा रहा है। 

3,000 करोड़ के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले के सह आरोपी मेहुल चोकसी की तरफ से दावा किया गया है कि मेहुल के खिलाफ भारत सरकार के पास कोई भी सबूत नहीं है इसके बावजूद मोदी सरकार ने उसके 25 साल पुराने 12,000 हजार करोड़ के बिजनेस को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है,उसका कोई दोष नही है लेकिन उसे ईडी लगातार परेशान कर रही है। वो अपनी बात रखना चाहता है,सीबीआई और पीएनबी से बात करना चाहता है लेकिन उसे मौका ही नही मौका नही दिया जा रहा ।

ख़ैर, विपक्ष भले ही देश से पैसा लेकर भागे लोगों पर कोई ठोस कारवाई ना करने का ठीकरा मोदी सरकार पर फोड़ता हो लेकिन पिछले कुछ दिनों से भगोड़ों पर हुई सख्ती का असर उनके बयान में साफ दिखाई देता है। भारत में करोड़ो के मालिक रहें नीरव मोदी के हाल तो आपने उस वीडियो में देख ही लिया होगा जिसमे वो सड़को पर उतरकर टैक्सी वालों को हाथ देकर रुकवाने को मजबूर हो गया है। ये हाल सिर्फ नीरव का नही है बल्कि देश का मोटा पैसा लेकर भागने वाले सभी लोग परेशान है। उन्हें कुछ समझ नही आ रहा और वो इस सरकार के सामने रहम की भीख मांगने को मज़बूर हैं।

मेहुल चोकसी ने कहा है कि जब केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने उसके खिलाफ केस दर्ज किया था तब वह अमेरिका में था जहां उसकी सर्जरी हो रही थी. इसी दौरान आवास और दफ्तर पर जांच एजेंसियों ने छापेमारी की थी.