समाज में “मी टू” को लेकर राय , आखिर कब तक महिला ही होगी गलत

420

एक कहावत तो आप सबने सुन रखा होगी कि “एक पुरुष की सफ़लता के पीछे एक औरत का हाथ होता है!” तो फिर इस समाज के अनुसार एक औरत की सफ़लता में किसका हाथ होता है? आपको अगर हम कहेंगे कि मर्द का हाथ होता है, तो हम सच बिल्कुल नहीं कहेंगे! दरसअल हमारे देश में एक सफल औरत के पीछे मर्द नहीं बल्कि “मी टू” का हाथ होता है! मी टू से वाक़िफ तो आप जरूर होंगे! अरे भई, वही साज़िश जिसके तहत लड़कियों ने, औरतों ने अपने साथ हुए यौन शोषण का ज़िक्र करने का साहस बटोरा.

और हिम्मत तो देखिए इन महिलाओं की ,साहस बटोर कर उन्होंने ज़िक्र कर भी दिया. आख़िर उन्होंने ऐसा सोच कैसे लिया कि वो अपने ख़िलाफ़ हुए हिंसा का विरोध करेंगी और हमारा पुरुष प्रधान समाज उसे शाबाशी देगा!? आख़िर महिला वर्ग कैसे भूल सकता है कि सती प्रथा जैसे पाप को भी समाप्त करने के पक्ष में यह पुरुष प्रधान समाज इतनी आसानी से नहीं आया था, तो यह नए जमाने की जंग “मी टू ” के लिए कैसे साथ आता ? काश! काश! काश कि देश का हर नागरिक सभी पीड़ितों में अपनी मां और बहन का चेहरा देख पाता!

काश कि दकियानुसी पितृसत्ता की पट्टी आंखों से उतारकर एक बार लोग “मी टू” के महत्व को समझने की कोशिश करते! काश कि “मी टू” जैसे अभियान का मजाक उड़ाने से पहले हम एक बार सोचते कि आख़िर “मी टू” की ज़रूरत क्यों पड़ी! क्या आप जानते एक औरत के लिए “मी टू” क्या है? मी टू मात्र एक मुहिम नहीं है. बल्कि यह उन हवस से भरे लोगों के मुंह पर एक ज़ोरदार तमाचा है, जिन्हें एक औरत अपने शौक पूरे करने का सामान लगती है. “मी टू” महिलाओं की हाथ की वो लाठी है जिससे वो अपनी रक्षा ख़ुद कर सकती हैं. उन्हें किसी और को लाठी बनाने की जरूरत नहीं है. “मी टू” समाज में पनप रहें यौन शोषण के अपराधियों के मन का डर है , जो उन्हें गलत करने से रोकता है. “मी टू” एक मुहिम है जो किसी भी उम्र की महिला को उसके साथ किसी भी वक़्त में हुए यौन शोषण को दुनिया के सामने रखने की ताकत देता है.

“मी टू” वो हथियार है जिसे अपनी सुरक्षा के लिए एक महिला को अपने पर्स में रखने की जरूरत नहीं है! “मी टू” एक सुरक्षा कवच है जो एक महिला को उसके भविष्य और कैरियर में बिना किसी डर के आगे बढ़ने में मदद करती है. “मी टू” एक कड़वी दवा है जिसे इस बीमार समाज की पिलाने की बेहद जरूरत थी. मी टू” एक बदलाव है , जो देश की आधी आबादी को “मी टू” से “नॉट मी” की तरफ़ ले जाएगा!!!