कोरोना मरीज की जान बचाने के लिए डॉक्टर ने किया इस दवा का इस्तेमाल,कहा ट्रायल जारी हैं

338

कोरोना वायरस ने देश में बढ़ता जा राह हैं. जिसको रोकने के लिए केंद्र सरकार और सभी प्रदेश मिलकर काम कर रहें हैं. देश में कोरोना जैसी बिमारी को रोकने के लिए पीएम मोदी ने तीसरा लॉकडाउन कर दिया हैं. कोरोना के बढ़ते कदम को देखते हुए अभी तक कोरोना की कोई भी मेडिसिन भारत के अंदर नहीं बन पाई हैं.

कोरोना से लड़ाई में डॉक्टर को जिन संभावित दवाओं से इलाज की उम्मीद है. वो उसी दवा से कोरोना संक्रमित मरीजो का इलाज़ कर रहें हैं. इसे पहले पुणे से खबर सामने आई थी की वहां पर कोरोना का वैक्सीन बनाया जा रहा हैं. अबकि बार बंगलुरु से ये पता चला हैं कि वहां पर कोरोना से लड़ने के के लिए दवा बने जा रही हैं. कोरोना से लड़ने के लिए   Itolizumab नाम की इस दवा को बेंगलुरु स्थित दवा कंपनी बायोकॉन बनाती है. इस दवा का इस्तेमाल सोरायसिस के इलाज में किया जाता है. केईएम अस्पताल के डीन डॉ. हेमंत देशमुख ने बताया कि ‘शनिवार को एक 35 वर्षीय मरीज को 8 घंटे के अंतराल पर इस दवा को दिया गया. Itolizumab को बायोकॉन ने कोरोना के इलाज के लिए अधिकृत किया है.

हेमंत देशमुख ने बताया, ‘हमने कुछ हफ्ते पहले केईएम और कोविड-19 का इलाज कर रहे अन्य अस्पतालों में इस दवा के क्लिनिकल ट्रायल की इजाजत मांगी थी.’ अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक, महाराष्ट्र पहला ऐसा राज्य है जिसने त्वचा रोग में इस्तेमाल होने वाली दवा को कोविड-19 के इलाज के लिए इस्तेमाल किया. अन्य किसी राज्य में इसके ट्रायल की अभी तक कोई खबर नहीं मिल पाई है.

ये दवा जो बंगलुरु में बने जा रही हैं. इस दवा को ‘humanised anti-CD6 monoclonal antibody’ के तौर पर क्लासिफाई किया गया है. जिसका मतलब होता है ‘लैब में पैदा किया गया ऐसा मॉलिक्यूल जो बाहरी कोशिकाओं से लड़ने में रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए सब्सटीट्यूट एंटीबॉडी का काम करता है’. इस दवा का ट्रायल एक 35 वर्षीय मरीज पर इस दवा  किया गया हैं ये मरीज वर्ली का रहने वाला है और पेशे से ड्राइवर है. उसे 27 अप्रैल को केईएम में भर्ती किया गया था, अगले दिन वह कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया था.

डॉक्टर का कहना है कि इस दवा को देने से मरीज का इम्यून सिस्टम को मजबूत करेगा. जिससे वो कोरोना जैसे बीमारी से लड़ सकेगा. डॉक्टर का ये भी कहना है कि कोई और भी मरीज अगर मिलता हैं तो इस दवा का ट्रायल करने के लिए हमे कुछ लोगों पर और अजमाना चाहिए.