तब’लीगी जमात की एक गलती से देश में मचा हा’हा’कार, क्रा’इम ब्रांच ने मौलाना साद को सुनाया ये फरमान

2325

आज को’रोना जैसी म’हामा’री ने पूरे देश को झकझोर के रख दिया है. आज कोरना जैसी म’हामारी की च’पेट में  कई देश आ चुके हैं और इस भ’यान’क बिमारी से लड़ भी रहे हैं. भारत सरकार देश की जनता के लिए हर भरसक प्रास कर रही है. देश में जिस हिसाब से को’रो’ना फैल रहा है. उसको रोकने की जगह यहां पर वा’मपं’थी संगठन के लोग राजनिती कर रहे है. कुछ ऐसे ही हालात देश की राजधानी दिल्ली से सामने आये हैं. दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज के इस कां’ड ने देश के अदंर से हजारो कोरोना मरीजो की संख्या बढ़ा दी है. लेकिन इसमे तो हाथ केजरीवाल का लग रहा है. क्योंकि केजरावील ना कहा थी की दिल्ली के अंदर 5 लोगों से ज्यादा लोग एक साथ इकट्ठा नही हो सकते लेकिन उसके बाद भी तब’लीगी जमात के 2000 से ज्यादा लोग वहां कैसे पहुंचे इसका जवाब कौन देगा? इससे इनकी जाहिलियत साफ नज़र आ रही है और इन लोगों ने पीएम मोदी के लॉकडाउन का पूरी तरह से मज़ाक बना डाला है.

हजरत निजामुद्दीन इलाके में हुई तब’लीजी म’रकज में हिस्सा लेने के बाद सै’कड़ों लोग को’रोना से संक्रमित पाए गए हैं. एक ओर जहां जमात में शामिल लोगों की तलाश के लिए अधिकारी तमाम कोशिशों में जुटे हैं, वहीं इस मामले पर अब सियासत भी शुरू हो गई है. दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तब’लीगी जमात के अंदर ये कार्यक्रम को आयोजित करवाने वाले अमीर मौलाना मोहम्मद साद को क्राइम ब्रांच ने नोटिस भेजा है. क्राइम ब्रांच की टीम ने मरकज से जुड़े 26 सवालों के जवाब मांगे हैं. इस बीच मौलाना मोहम्मद साद की तलाश में पुलिस की छापेमारी जारी है. एक दिन पहले ही मौलाना साद ने अपना ऑडियो जारी किया था, जिसमें बताया था कि वह आइसोलेशन में है.

दिल्ली पुलिस की क्रा’इम ब्रांच टीम ने मौलाना साद से पूछा कि धार्मिक आयोजनों में लोगों की भीड़ जुटने से पहले क्या कोई इजाजत कभी पुलिस से या प्रशासन से मांगी गई या कभी मिली तो उसकी जानकारी और दस्तावेज मुहैया कराएं. 12 मार्च के बाद मरकज में आये सभी लोगों की पूरी जानकरी दें, जिसमे विदेशी और भारतीय शामिल हैं.

मौलाना साद ने अदर किसी रतह का कोई सरकार वि’रोधी कोम नही किया तो फिर वो पुलिस के सामने हाजिर क्यो नही हो जाते हैं. लुकाछिपी का खेल बंद करे और सामने आकर सच काबूल करलें.