भारत की चेतावनी के बाद भी नेपाल सरकार ने संसद में पेश किया नया नक्शा,भारत के तीन इलाकों को बताया है अपना

2315

भारत और नेपाल के बीच नक़्शे वि’वाद की वजह से अब रिश्तों में खटा’स आनी शुरू हो गयी है. दरअसल नेपाल ने भारत क्षेत्र के तीन हि’स्सों को अपने नक़्शे में शामिल कर लिया है. जिसकी वजह से दोनों देशों के बीच त’नाव बना हुआ है. बता दें भारत ने लिपुलेख से होकर गुजरने वाली कैलाश मानसरोवर लिंक रोड के निर्माण का कार्य 8 मई को उद्घा’टन करने के बाद से शुरू कर दिया है. जिस पर नेपाल ने आ’पत्ति दिखाई है. जिसके बाद नेपाल ने भारत के हिस्से वाले क्षेत्रों पर अपना दा’वा किया और उन्हें अपने नक़्शे में शामिल कर लिया है.

जिसके बाद अब नेपाल सरकार ने इस ने राजनीतिक नक्शे के संबंध में संवि’धान सं’शोधन बिल को अपनी संसद में पेश किया है. जिसमें भारत के कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा क्षेत्र शामिल है. वहीं नेपाली कांग्रेस नेपाल के नक्शे को अप’डेट करने के लिए संविधान संशोधन का सम’र्थन कर रही है.

बता दें नेपाल और भारत के बीच संबंध काफी पुराने है. और नेपाल के इस कदम के बाद से दोनों के संबधों में द’रार और ग’हरी हो सकती है. वही भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने इस मस’ले पर कहा था कि हम नेपाल सरकार से अ’पील करते हैं कि वो ऐसे बनावटी कार्टोग्रा’फिक प्रका’शित करने से बचे. साथ ही भारत की सं’प्रभुता और क्षेत्रीय अखं’डता का सम्मान करे.

लेकिन भारत की इस अपी’ल के बाद भी नेपाल सरकार ने नए न’क़्शे को अपनी संसद में पेश किया है. जिसके बाद अब दोनों देशों के बीच और कितना त’नाव बढ़ता है ये नेपाल की इस हर’कत से ही अं’दाजा लगाया जा सकता है.