दिल्ली में हार की समीक्षा के बाद मनोज तिवारी का बड़ा बयान, कहा नफरतभरे बयान देने वाले नेताओं को…

2560

दिल्ली में हुए विधानसभा चुनावों में जीतने के लिए बीजेपी ने आखिरी में आकर पूरी ताकत झोंक दी थी. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह समेत कई दिग्गज नेता मैदान में उतर आए और प्रचार-प्रसार में जुट गये थे. इसके बावजूद भी सीएम केजरीवाल की नीतियों पर भाजपा के दिग्गज नेताओं के प्रचार का कोई असर नहीं पड़ा और आम आदमी पार्टी ने प्रचंड बहुमत हासिल करके पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई. अब दिल्ली में मिली हार के बाद बीजेपी गहराई में पहुंचकर हार का कारण ढूंढ रही है.

जानकारी के लिए बता दें दिल्ली में मिली हार के बाद सूबे के बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने बड़ा बयान दिया है. मनोज तिवारी ने कहा है कि नफरत भरे बयानों और भाषणों के चलते पार्टी को भारी नुकसान हुआ, उन्होंने साफ़ कहा है कि जो लोग नफरत भरे बयान देते हैं उन्हें पार्टी से बाहर निकाल देना चाहिए. इतना ही नहीमनोज तिवारी ने इसके आगे भी बड़ी बात कह डाली है.

मनोज तिवारी ने कड़ा रुक अपनाते हुए ये भी कहा है कि ऐसे लोगों के चुनाव में भागीदारी के क़ानूनी अधिकारी भी छीन लिए जाने चाहिए. मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा है कि उनकी पार्टी हार की समीक्षा कर रही है क्योंकि अनुमान के मुताबिक़ चुनावों में सीटें नहीं मिली. इसके आगे मनोज तिवारी ने कहा कि 2013 में हमने 33 फीसदी वोट शेयर के साथ 32 सीटें जीती थी.

गौरतलब है कि दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि इस बार हमारा आंकलन था कि अगर 38 फीसदी वोट शेयर मिला तो हमारी सीटें 36 के ऊपर जा सकती हैं लेकिन ऐसा कुछ भी हुआ नहीं. उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस इस चुनाव में 9 फीसदी वोट के साथ खिसक कर महज 4.2 फीसदी पर आ गयी.