आजम खान के बचाव में ‘माँ बहन’ को लेकर ये क्या बोल गये नेता जी!

1869

संसद में चर्चा के दौरान सपा सांसद आजम खान ने उपसभापति रमा देवी के लिए अभद्र टिप्पणी की. इस टिप्पणी के बाद से ही सदन की लगभग सभी महिला सांसदों ने एक सुर में आजम खान के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रही हैं लेकिन इसी बीच कुछ ऐसे भी लोग हैं जो आजाम खान की बचाव भी कर रहें हैं. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने अब बड़ा विवादित बयान दिया है.

दरअसल आजम खान के बचाव में बोलते हुए मांझी माँ-बेटे के रिश्ते पर बोलने लगे. इसी बीच उन्होंने कहा कि  अपनी बात के समर्थन में उन्‍होंने तर्क देते हुए कहा कि पुराने जमाने में लोग पूरे परिवार से प्यार करते थे और जंबे समय बाद मिलने पर प्यार का इजहार करते थे। ऐसे में लंबे समय बाद मिलने वाले भाई-बहन और मां-बेटा एक-दूसरे को किस करें तो क्या उसे सेक्स कहेंगे?  मांझी साहब बोल तो रहें थे आजम खान का बचाव करने के लिए लेकिन जब बोलने लगे तो बोलते चले गये.

हालाँकि जीतनराम मांझी ने यह भी कहा कि अगर किसी को लगता है कि उनकी भाषा गलत थी या उन्होंने गलती की है तो आजम खान को माफ़ी मांग लेनी चाहिए.

” अरे मांझी साहब कौन सा भाई अपनी बहन की आँखों में आखें डाल कर देखने की बात करता है? आप करते हैं क्या? मांझी साहब जिस इंसान ने अपने प्रतिद्वंदी की इनरवियर पर टिप्पणी की हो, मंशा उनकी गलत है या समझने वाले की?

खैर मांझी को आजम खान का बचाव करना तो उन्होंने अपने तर्क और कुतर्क से कर ही दिया लेकिन यहाँ एक बड़ी दिलचस्प बात आपको जाननी चाहिए कि जब आजम खान उपसभापति पर अभद्र टिप्पणी कर रहे थे तब अखिलेश यादव बैठकर हंस रहे थे और अब मायवती से लेकर राबड़ी देवी तक आजम खान के विरोध में उतर आये हैं. मामला अब माफ़ी तक सीमित नही रहा, महिलाएं अब तो आजम खान को सदन से निष्काषित करने की मांग कर रही हैं. आजम के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है क्योंकि सदन की सभी महिलायें एक साथ आकर, पार्टी लाइन से ऊपर उठकर आवाज उठाई.
आपको ये खबर कैसी लगी, कम्मेंट करके हमें जरूर बताएं.