ये युवक फेसबुक पर भारत और मोदी को बोल रहा था गीदड़, पहुंचा जेल

422

एक कहावत है जिस थाली में खाना उसी में छेद करना… आज यह कहावत इसलिए याद आई क्यूंकि हमारे देश में ही रहने वाले कुछ लोग ऐसे हैं जिनके मन में देश विरोधी भावना इस कदर प्रवृत है कि देश में होने वाली कोई आतंकी घटना हो या कोई दुर्घटना इन्हें उसमें हँसी आती है… ये इस कदर असंवेदनशील हैं कि खाते तो यहीं का है पर गुण गाते कहीं और का ही हैं..

खैर यह लोग कौन हैं आपको बताने की ज़रुरत नहीं है लेकिन इन लोगों के लिए अब मेरे पास एक खबर है और खबर यह है कि अब अगर आप भारत के खिलाफ.. भारत के संविधान के खिलाफ.. इसके कानून के खिलाफ या इसकी सेना के खिलाफ अपनी सोच का प्रदर्शन करेंगे अपना मूंह खोलेंगे तो सीधे जेल पहुचेंगे..

ये जनाब जिनका मूंह ढंका हुआ है यह हैं मोहम्मद तौशिफ़ जो बहुत उछल उछल कर फेसबुक पर कमेंट कर रहे थे… कमेंट क्या कर रहे थे प्रधानमंत्री के लिए अपशब्द प्रयोग कर रहे थे.. और कह रहे थे.. “मोदी में ताकत है पाकिस्तान से लड़ने का”

अगले कमेंट में लिखा कि “मोदी को बम डाल कर उड़ा देना पाकिस्तान.. गीदढ कभी शेर के साथ मुकाबला नहीं कर सकता… पाकिस्तान शेर है और शेर ही रहेगा..”

फेसबुक पर यह जनाब शेर बन रहे थे.. हिंदुस्तान को गीदढ बोल रहे थे फिर जब जेल पहुंचे तो देखिये कैसे खुद ही गीदढ बन गए…

अगर कोई आम दिन होता तो शायद इन जनाब को माफ़ कर दिया जाता अगर अब और नहीं.. इस वक़्त जनता अपने सैनिकों के बलिदान के आक्रोश में बैठी है और अब इन बातों का जवाब ऐसे मिलेगा..

माना कि भारत में धार्मिक सद्भाव है.. जहाँ हमारी संस्कृति में हमें वासुदेव कुतुम्भकम की सीख दी जाती है तो भारत का संविधान भी हर धर्म, जाती, समुदाय के लोगों को समान अधिकार और संरक्षण देती है..

मगर उसमें अब देश विरोधी नारे देश विरोधी बातें या देश विरोधी कोई भी गतिविधी अब बर्दाश्त नहीं की जाएगी.. फिर आप कोई भी हो.. किसी भी धर्म से.. किसी भी जाति से या किसी भी खानदान से… भारत के खिलाफ आपकी कोई भी बात..आपकी कोई भी हारकर अब बर्दाश्त नहीं की जाएगी..

इसका जवाब देश का संविधान जो देगा वो देगा.. कानून जो देगा वो देगा मगर अब हिन्दुस्तान की अवाम आपको नहीं छोड़ेगी.. ये अब आपके लिए चेतावनी है कि भारत की अस्मिता के खिलाफ आपकी कोई भी गुस्ताखी बर्दाश्त नहीं की जाएगी