बेटी, बहन जी और दीदी से कैसे बचेंगे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ?

आम चुनाव में अब बस कुछ ही दिनों का वक्त बाकी रह गया है। चंद दिनों बाद तस्वीर साफ हो जाएगी कि देश की सत्ता पर कौन काबिज होगा। लगातार दूसरी बार केंद्र की सत्ता में वापसी की कोशिश में जुटे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के लिए साल 2019 का चुनाव 2014 के चुनाव जितना आसान नहीं होने वाला है . उत्तर प्रदेश से लेकर बंगाल तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए मोर्चेबंदी हो रही है। यूपी में मायावती और प्रियंका गांधी हैं तो बंगाल में ममता बनर्जी। तीन देवियों की तिकड़ी ने 2019 की सियासी महाभारत को दिलचस्प बना दिया है। 2019 के चुनावी महासमर के 4 सबसे अहम किरदार हाथ में सियासी हथियार लेकर वार-पलटवार का खेल शुरु कर चुके हैं। यूपी से बंगाल तक मोदी को रण में घेरने के लिए ये तिकड़ी तैयार है और इसकी सबसे ताजा किरदार हैं कांग्रेस की महासचिव, गांधी परिवार की नई सियासी उम्मीद और राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी।

इसी कड़ी में अब कहा जा रहा है कि भारतीय राजनीति की शक्तिशाली महिलाएं मानी जाने वाली तीन महिलाएं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल के लिए जीत में बड़ी चुनौती बनकर सामने आ सकती हैं। वही प्रियंका की 2014 में पहली बार मोदी से तब टक्कर हुई, जब वो अपनी मां और भाई के इलाके में चुनाव की कमान संभाल रही थीं। मोदी के खिलाफ तब प्रियंका गांधी के तेवर पूरे हिंदुस्तान ने इस एक लाइन में देख लिया था। करोंडो लोगों को प्रियंका गांधी में दादी इंदिरा का अक्स नजर आता है और शायद यही वजह है कि वो मोदी से टकराने का हौसला रखती हैं और इसीलिए वो उत्तर प्रदेश में मोदी के खिलाफ कांग्रेस की सबसे अहम योद्धा बनने को तैयार हैं।

दरअसल 2019 की महाभारत का कुरुक्षेत्र उत्तर प्रदेश ही है और उसी यूपी की एक और सियासी शख्सियत मोदी के खिलाफ तिकड़ी की अहम किरदार है यानी मायावती। ये हकीकत है कि दिल्ली की गद्दी का रास्ता उत्तर प्रदेश से गुजरता है। 80 सीटों वाले यूपी में जिसका सिक्का चला वो ही देश का सिकंदर बनता है।इसका इतिहास गवाह है और मायावती उसी यूपी के बड़े वोटबैंक की दावेदार हैं तभी तो मोदी पर हमले का एक भी मौका नहीं छोड़तीं।

मायावती जानती हैं कि मोदी के अंदर वो जादुई करिश्मा है जो उनके पारंपरिक एससी वोट बैंक को अपने पाले में खींच सकते हैं इसलिए वो हर मौके पर मोदी को ANTI ST साबित करने की कोशिश करती हैं।दरअसल उत्तर प्रदेश में OBC के बाद SC वोट बैंक सबसे बड़ा है जिसका आंकड़ा 22 से 25 फीसदी के बीच बताया जाता है और मायावती उस वोटबैंक की थोक नुमाइंदगी का दम भरती हैं लेकिन मोदी भी माया की कमजोरियों पर करारा वार करने में माहिर हैं।

माया और मोदी दोनों की कोशिश यूपी में एक दूसरे को धूल चटाने की है लेकिन यूपी के साथ साथ बंगाल में दीदी भी मोदी पर धारदार वार कर रही हैं।मोदी सरकार की एक्सपायरी डेट घोषित कर रहीं दीदी के बंगाल में मोदी का सबसे ज्यादा इंटरेस्ट है और ये बात ममता बनर्जी को बेचैन कर रही है। जिस बंगाल में बीजेपी के सिर्फ 2 सांसद हैं वहां मोदी एंड पार्टी ने पूरी ताकत झोक दी है लेकिन चुनौती बड़ी है। बंगाल दीदी का ऐसा गढ़ है जहां सेंध लगाना लोहे के चने चबाने जैसा है। मुकाबला दिलचस्प होगा… इसमे तो कोई शक नही है… इसमे सबसे अहम ये देखना होगा कि पीएम मोदी इन दीदी, बहन और बेटी से कैसे पार पाते है… 

Related Articles

19 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here