महाराष्ट्र में बढ़ी तकरार, उद्धव ठाकरे ने शरद पवार को दो टूक में कह दिया ‘किसी कीमत पर नहीं झुकेंगे’

2996

महाराष्ट्र में उद्धव सरकार पर संकट के बादल लगातार गहराते जा रहे हैं. तीन पार्टियों वाली गठबंधन सरकार में दो बड़ी पार्टियाँ आमने सामने खड़ी हैं और दोनों में से कोई भी झुकने को तैयार नहीं. एल्गार परिषद् और भीमा कोरेगाँव मामले में शिवसेना और एनसीपी के बाच तकरार बढती जा रही है.  अब तो उद्धव ने भी शरद पवार को साफ़ साफ़ संकेत दे दिए हैं कि देशद्रोह के मामले पर वो किसी भी दवाब में झुकने वाले नहीं.

एल्गार परिषद और भीमा कोरेगांव मामले में उद्धव सरकार ने जांच की जिम्मेदारी एनआईए को सौंप दी है. लेकिन शरद पवार चाहते हैं कि एसआईटी भी इसकी जांच सामानांतर रूप से करे. लेकिन उद्धव का मानना है कि देशद्रोह का मामला और सामान्य हिंसा अलग अलग मामला है. दोनों को एक ही तराजू में रख कर नहीं तौला जा सकता इसलिए इसकी जांच भी अलग अलग तरीके से होनी चाहिए.

आपको बता दें कि बीते दिनों शरद पवार ने एल्गार परिषद और भीमा कोरेगांव मामले की जांच महाराष्ट्र सरकार द्वारा एनआईए को सौंपे जाने की तीखी आलोचना की थी. शरद पवार तो इतने नाराज हो गए थे कि उन्होंने अपने मंत्रियों की एक अलग मीटिंग बुला ली थी. लेकिन सरकार चलाने के लिए पहले से ही कई मुद्दों पर समझौते कर चुके उद्धव अब इस मामले पर समझौते के मूड में बिलकुल नहीं हैं. उद्धव ने एल्गार परिषद और भीमा-कोरेगांव को अलग-अलग मामला बताते हुए साफ किया है कि एल्गार परिषद का केस देशद्रोह की साजिशों से संबंधित है इसलिए सरकार को इसे एनआईए को सौंपने में कोई ऐतराज नहीं है.