कमलनाथ के राज में शौचालय में हो रहा है ये कैसा काम

5877

किचन में तो खाना बनाना सुना था, पर अब शौचालय में खाना बनाने की खबर आई है। मध्य प्रदेश की एक आंगनबाडी में शौचालय में खाना बनाने की खबर सामने आई है। इसकेे बारे में जब मध्य प्रदेश की मंत्री इमरती देवी से पुछा गया तो उन्होनें कहा कि टाॅयलट सीट और स्टोव के बीच विभाजन है तो शौचालय में खाना बनाने में कोई दिक्कत नही है। इमरती देवी ने आगे कहा कि आजकल तो सबके घरों में अटैच बाथरुम होते है। मंत्री ने पुछा कि अगर आपके रिश्तेदार आपके घर अटैच बाथरुम होने के कारण खाना खाने से मना दें तो? उन्होंने कहा कि टाॅयलट सीट पर बर्तन रखे जा रहे थे लेकिन उनका इस्तेमाल नही किया जाता है। हालांकि,फिर भी इस मामले की जाँच के आदेश दे दिए गए है।

विभाजित रसोई और शौचालय में खाना बनाने के लिए सिलेंडर और मिट्टी के चूल्हे दोनों हैं। खाना पकाने वाले बर्तनों को टाॅयलट के ऊपर रखा जा रहा था। जिले के महीला एवं बाल विकास अधिकारी देवेंद्र सुंद्रियाल इस मामले में कहा कि एक स्वंय सहायता समूह ने शौचालय का नियंत्रण ले लिया था और वह एक अस्थाई रसोईघर के रुप में इसका इस्तेमाल कर रहा था। इससे पता चलता है कि आंगनबाडी में बच्चों की किस तरह से देखभाल की जाती है और मंत्री जी को भी इसकी जानकारी मिलने के बाद कुछ खास फरक नही पड रहा हैं।

आंगनबाडी केंद्र भारतीय गावों में बुनियादी स्वास्थय देखभाल प्रदान करते हैं। आंगनबाडी सुपरवाइजर और इसमें शामिल कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। यह भारतीय सार्वजनिक स्वास्थय देखभाल प्रणाली का हिस्सा है। मध्य प्रदेश में नई सरकार बनने के बाद कई ऐसे मामले सामने आए है जिनपे कोई खास कार्रवाई नहीं करी गई है। सत्ता मेें आने के इतने दिन बाद भी सरकार सुस्त नजर आ रही है। अब देखना ये होगा कि सरकार इस अहम मुद्दे पर कोई सख्त कदम लेती है या इस मामले को भी बाकी मामलों की तरह नजरअदांज कर देगी।