मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर ख’तरा,सरकार बचाने दिग्विजय सिंह आये सामने

850

मध्य प्रदेश में सियासी उठा’पट’क एक बार फिर से तेज होती नजर आ रही है. कल का वाक्या की बात करें तो. वहां के मुख्यमंत्री ने कहा था कि अगर फो’कट के पैसे मिल रहें है तो लेलो. इसी को लेकर हलचल मच गई है. विधायकों की ख’रीद-फ’रोख्त के आ’रोप के चलते मंगलवार को आधी रात तक उ’ठा’प’टक जारी रही है. इससे पहले कमलनाथ और सिंधिया के बीच शीत यु’द्ध जारी था. जिसकी वजह से मध्य प्रदेश चर्चा का वि’षय बना हुआ था.इसी बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मीडिया के सामने आकर कहा कि किसी ‘तरह का कोई खतरा नहीं है’ उन्होंने आगे कहा कि वे सभी एकजुट हैं. दिग्विजय ने इससे पहले दावा किया था कि बीजेपी के पास अब सिर्फ 3 कांग्रेस और 1 निर्दलीय विधायक हैं जो जल्द लौट आएंगे. 

दरअसल जब मीडिया से मुखातिब हुए दिग्विजय सिंह तो उनसे मीडिया ने मध्य प्रदेश सरकार पर खत’रा मंड’राने का सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘किसी तरह का कोई खतरा नहीं है. हम सभी एकजुट हैं.’ इससे पहले सि’यासी सं’कट के बीच मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंगलवार को बीजेपी को घेरते हुए कहा, ‘एमएलए ही मुझसे कह रहे हैं कि हमें इतना पैसा दिया जा रहा है. मैंने विधायकों से कहा है कि फो’कट का पैसा मिल रहा है तो ले लेना.

मध्य प्रदेश में कमलनाथ ने हॉ’र्स ट्रे’डिंग के आरो’पों पर कहा था, ‘मैं दिग्विजय सिंह के बयान से पूरी तरह सहमत हूं. बीजेपी डरी हुई है क्योंकि आने वाले दिनों में उनके 15 साल के शासनकाल में हुए घो’टालों का खु’लासा होने वाला है.’ कमलनाथ ने आगे कहा, ‘विधायक मुझे खुद बता रहे हैं कि उन्हें पैसा देने की बात की जा रही है. इससे पहले दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर आ’रोप लगाते हुए कहा था कि बीजेपी के रामपाल सिंह, नरोत्तम मिश्रा, अरविंद भदौरिया, संजय पाठक विधायकों को पैसा देने जा रहे थे. दिग्विजय ने कहा था, ‘अगर वहां छापा पड़ा होता तो वे पकड़े जाते… हमें लगा कि 10 से 11 विधायक वहां होंगे लेकिन अब सिर्फ 4 विधायक उनके पास हैं वे भी जल्द लौट आएंगे.

मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी खुद ही सारे खयाली पुलाव पकाने में जुटी है. कांग्रेस पार्टी ने अपने हिसाब से ही सब कुछ सोच लेती है कि मध्य प्रदेश में उनके साथ कौन कौन विधायक है और कौन नहीं. देखा जाये तो ऐसा तो नहीं की कमलनाथ को अपनी ही कुर्सी खतरे में दिख रही है. क्योकि सिंधिया कमलनाथ को कई बार चेतावनी दे चुके हैं.इससे पहले ये आवाज भी उठ चुकी है की सिंधिया अपने पिता की पार्टी को एक बार फिर से खड़ा करें और  मध्य प्रदेश की जनता की मदद करें. यही कारण है की कमलनाथ को अपनी ही कुर्सी पर ख’तरा मंड’राता दिख रहा है. जिसकी वजह से वो ऐसे खयाली पुलाव पक्का रहें है.