उतार चढ़ाव से भरी थी मधुबाला की ज़िन्दगी …

569

भारतीय सिनेमा के 100 सला के इतिहास ने हमे कई ऐसे कलाकार दिए जिनको ना सिर्फ हिंदी सिनेमा बल्कि पूरा देश सराहता है…वैसे इनमें से एक बॉलीवुड की वो मशहूर अदाकारा है जिसकी खूबसूरती के चर्चे देश-विदेश में होते थे…..दीवानों और चाहने वालों की कतार इतनी बड़ी थी कि उसे सिनेमा की ‘सौन्दर्य देवी’ कहा जाने लगा…. हम बात कर रहे हैं बेहद ख़ूबसूरत मधुबाला की।…..मधुबाला का नाम हिंदी सिनेमा की उन अभिनेत्रियों में शामिल है, जो पूरी तरह से सिनेमा के रंग में डूब गईं थीं। वैसे आपको बता दें कि मधुबाला को क्लासिक फिल्म की जनक भी कहा जाता है…वैलेंटाइन डे के दिन पैदा हुई इस बेहद मासूम और खूबसूरत अदाकारा के हर अंदाज में प्यार झलकता था।…

मधुबाला का असली नाम मधुबाला नहीं था बल्कि मुमताज़ ए जहां देहलवी था….. का सिनेमा के लिए मधुबाला का  योगदान अहम रहा है….इसमें मुगल-ए-आजम, चलती का नाम गाड़ी, मिस्टर एंड मिसेज 55, महल आदि फिल्मों के नाम शामिल हैं…..

आपको बता दें कि, एक बाल कलाकार से लेकर एक आइकॉनिक अभिनेत्री तक का सफ़र तय करने वाली मधुबाला की जीवन यात्रा अविस्मरणीय रही है…..मुगल-ए-आज़म की अनारकली मतलब मधुबाला ने अपने अभिनय से हिंदी सिनेमा के आकाश पर एक ऐसी अमिट छाप छोड़ दी कि आज भी कई अभिनेत्रियां उन्हें अपना रोल मॉडल मानती हैं…

मधुबाला का अंदाज बेहद रोमांटिक था।…मधुबाला के करीबियों की मानें तो मधुबाला जिस अभिनेता या डायरेक्टर के साथ काम करती थीं उसे प्रपोज कर देती थीं…. ऐसा कहा जाता है कि मधुबाला अपनी हर फिल्म के निर्देशक और हीरो को देखते ही उनको प्यार हो जाता था……..उनको प्रपोज करने का तरीका एक ही जैसा होता था……वो हर हीरो को एक गुलाब का फूल ओर लव लेटर देकर प्रपोज करती थी……

जन्म से ही मधुबाला के दिल में छेद था और डॉक्टरों ने उनकी बीमारी को देखते हुए बहुत ज्यादा आराम करने की सलाह दी थी। इन सबके बाद भी मधुबाला के पिता ने उन्हें ऐसी दुनिया में भेज दिया जहां उन्हें लगातार काम करना पड़ा था। दरअसल मधुबाला अपने माता-पिता ही नहीं 11 भाई बहन वाले परिवार में इकलौती थीं जिनकी कमाई से पूरे घर का खर्च चलता था…….

हज 6 साल साल की उम्र से मधुबाला ने मायानगरी में अपने कदम रख दिए थे। 1957 में फिल्मफेयर की खास सिरीज में उस जमाने के सभी सुपरस्टार्स ने अपने बारे में लिखा था….किशोर कुमार, अशोक कुमार, नरगिस, मीना कुमारी, नूतन, राजकपूर, दिलीप कुमार, देव आनंद सभी ने अपने बारे में लिखा था…… मधुबाला ने अपने दिल का हाल फिल्मफेयर की उस पत्रिका में उतार दिया था…..

वैसे आपको बता दें कि की हाल में रेलेए हुई फिल्म कलंक का डांस sequence मधुबाला से ही इंस्पायर्ड है… भले ही आज मधुबाला हमारे बिच नहीं है … लेकिन उनका bollywood को कॉन्ट्रिब्यूशन आज भी बहुत मायने रखता है.