रक्षा बंधन के दिन ट्रोल कर रहे लोगों को आर माधवन ने दिया करारा जवाब

2421

आर माधवन की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है. इस तस्वीर में आर माधवन अपने बेटे से वो राखी बंधवाते नजर आ रहे हैं जो उनकी बहन ने भेजा है. पूरी रीतिरिवाज से माधवन अपने बेटे से रखीं बंधवाई और उसकी फोटो सोशल मीडिया पर शेयर की. तस्वीर में माधवन शरीर के ऊपर के हिस्से पर कुछ पहने नही है जिसकी वजह से उनका जनेऊ और उनके बेटे का जनेऊ दिखाई दे रहा है. इसी को लेकर सोशल मीडिया पर कुछ लिबरल लोगों ने माधवन को टारगेट करना शुरू कर दिया . ट्रोल करने के पीछे एक कारण ये भी था कि तस्वीर में दिखाई दे रहा है कि माधन के पीछे मन्दिर में क्रोस का साइन दिखाई दे रहा है जो इसाई धर्म का प्रतीक होता है. जिसके वजह से लोग उन्हें फर्जी कहने लगे. कुछ लोगों ने तो ये तक कह दिया है कि अपने पूर्वजों की परम्पराओं को ढोता एक सेलिब्रिटी…

अनगिनत लिबरल लोगों ने अपने अपने हिसाब कैप्शन देकर इस तस्वीर को शेयर किया.. लेकिन सवाल तो यह है कि जब मुस्लिम टोपी पहनकर घूमता है, एक सिख पगड़ी बांधकर घूमता है तो क्या वो भी अपने पूर्वजों के परम्पराओं को ढो रहा है. अरे लिबरल गैंग के अति समझदार लोगों इस तरह कि परम्परा को कोई ढोता नही है बल्कि अपनी अपनी आस्था होती है, जो लोग मानते है करते हैं..

हालाँकि जब माधवन को टारगेट किया गया तो उन्होंने इस पर अपना जवाब भी दिया है.माधवन ने कहा कि  “मैं वास्तव में आप लोगों की पसंद की चिंता नहीं करता. मैं उम्मीद करता हूं कि तुम जल्दी ठीक हो जाओ. हैरानी की बात है कि आप इतने बीमार हैं कि आपने गोल्डन टेम्पल की फोटो नहीं देखी और नहीं पूछा कि क्या मैं सिख धर्म में परिवर्तित हो गया हूं.” “मुझे दरगाओं से भी आशीर्वाद मिला है और दुनिया भर के सभी धार्मिक स्थानों से आशीर्वाद मिला है. मेरे घर में सभी धर्मों को सम्मान दिया जाता है. मुझे अपने बचपन में गर्व के साथ अपनी पहचान बनाए रखने के लिए सिखाया गया है, लेकिन उसी के साथ हर विश्वास और धर्म का सम्मान करें…

जो लोग आर माधवन को टारगेट करने की कोशिश कर रहे थे, उनके मुंह पर ये जवाब जोरदार तमाचा है. ये लोग पोल दूसरों की खोलने के चक्कर में खुद ही बनेकाब हो जाते हैं.