आ गई केंद्र सरकार की गाइडलाइन, लॉकडाउन 2.0 में इन लोगों को मिलेगी विशेष छूट

8037

लॉकडाउन 3 मई तक बढाने का ऐलान होने के साथ ही अब केंद्र सरकार की तरफ से गाइडलाइन जारी की गई है. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बुधवार को लॉकडाउन 2.0 के दौरान कम जोखिम वाले क्षेत्रों में छूट संबंधी गाइलाइन जारी की है. कोरोना मुक्त इलाकों में यह छूट 20 अप्रैल से लागू होगी. इस गाइडलाइन में उन क्षेत्रों का जिक्र है जिन्हें लॉकडाउन के बावजूद कुछ छूट देने का प्रावधान है.

इन दिनों रबी की फसल कटाई का सीजन है. खेतों में खड़ी फसल खराब न हो इसके लिए किसानों और कृषि कार्य से जुड़े लोगों को विशेष छूट दी गई है. लेकिन इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन किया जाएगा. लॉकडाउन 2.0 में खेती से जुड़ी सभी गतिविधियां चालू रहेंगी, किसानों और कृषि मजदूरों को हार्वेस्टिंग से जुड़े काम करने की छूट रहेगी. कृषि उपकरणों की दुकानें, उनके मरम्मत और स्पेयर पार्ट्स की दुकानें खुली रहेंगी. कटाई से जुड़ी मशीनों के एक राज्य से दूसरे राज्य में मूवमेंट पर कोई रोक नहीं रहेगी.

लॉकडाउन 2.0 के दौरान खाद, बीज, कीटनाशकों के निर्माण और वितरण की गतिविधियां चालू रहेंगी, इनकी दुकानें खुली रहेंगी. मछली पालन से जुड़ी गतिविधियां, ट्रांसपोर्ट चालू रहेंगी. मवेशियों के चारा से जुड़े प्लांट, रॉ मटिरिलय की सप्लाई चालू रहेगी और दूध और दुग्ध उत्पाद के प्लांट और इनकी सप्लाई चालू रहेगी.

कंस्ट्रक्शन के कामों में भी कुछ छूट दी गई है. लेकिन ये छूट भी शर्तों के साथ है. लॉकडाउन 2.0 के दौरान उन सड़कों की मरम्मत और निर्माण को छूट दी गई है जहां भीड़ नहीं हो. शहरी क्षेत्रों में भी कंस्ट्रक्शन वर्क को छूट दी गई है लेकिन सिर्फ उन्हीं को जहां साइट पर ही वर्कर उपलब्ध हैं. सिंचाई परियोजनाओं, बिल्डिंग निर्माण को छूट दी गई है.

ग्रामीण क्षेत्रों में मंरेगा से जुड़े काम लॉकडाउन 2.0 के दौरान जारी रहेंगे. लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन करना होगा. मनरेगा में सिंचाई और वॉटर कंजर्वेशन से जुड़े कामों को प्राथमिकता दी जाएगी.  बैंक शाखाएं, एटीएम, पोस्टल सर्विसेज पहले की तरह ही चालू रहेंगी. लॉकडाउन 2.0 में ट्रकों के मरम्मत की दुकानों को भी छूट, हाईवेज पर ढाबे भी खुले रहेंगे ताकि ट्रकर्स को दिक्कत न हो. ट्रकों और गुड्स/कैरियर वीइकल्स को छूट रहेगी, एक ट्रक में 2 ड्राइवरों और एक हेल्पर की इजाजत होगी.