कम नहीं हो रहा कोरोना का कहर, मोदी सरकार ने एक बार फिर लॉकडाउन बढाने का किया ऐलान

4038

देश में कोरोना के मामले कम होने का नाम नहीं ले रहे. तमाम कोशिशों के बावजूद देश में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 35 हज़ार के पार पहुँच गई जबकि 1100 लोगों की कोरोना की वजह से जान जा चुकी है. महाराष्ट्र तो कोरोना का सबसे बड़ा हॉटस्पॉट बन कर उभरा है. महाराष्ट्र में कोरोना से 10 हज़ार लोग संक्रमित है. ऐसे हालातों में मोदी सरकार ने लॉकडाउन को दो हफ़्तों के लिए और आगे बढ़ा दिया है. अब देश में 17 मई तक लॉकडाउन जारी रहेगा. इस बात का अंदेश तो पहले से ही था क्योंकि मुख्यमंत्रियों के साथ हुई पीएम मोदी की बैठक में ज्यादातर राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने लॉकडाउन को आगे बढाए जाने का सुझाव दिया था.

लॉकडाउन बढाए जाने से पहले ही केंद्र सरकार ने इसको लेकर तैयारियां शुरू कर दी थी. गृह मंत्रालय ने गाइड लाइन जारी करके दूसरे राज्यों में फंसे छात्रों और मजदूरों को घर पहुँचाने सम्बन्धी ऐलान कर दिए थे. आज शुक्रवार को तेलंगाना से झारखण्ड के लिए प्रवासी मजदूरों को लेकर एक स्पेशल ट्रेन रवाना की गई. कई राज्य सरकारें कोटा में फंसे अपने छात्रों को स्पेशल बसों के जरिये वापस बुला चुकी है.

गौरतलब है कि सबसे पहले 21 दिनों के देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था. ये लॉकडाउन 25 मार्च से 14 अप्रैल तक पहला लॉकडाउन चला. इसके बाद 15 अप्रैल से 3 मई तक 19 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान भी पीएम मोदी ने खुद जनता को संबोधित करते हुए किया था. लेकिन इस बार गृह मंत्रालय के जरिए लॉकडाउन बढ़ाए जाने का ऐलान किया गया है. लॉकडाउन बढ़ना इसलिए भी जरूरी हो गया था क्योंकि लॉकडाउन लागू होने के बावजूद देश में कोरोना के मामले तो बढे लेकिन लॉकडाउन की वजह से उसने उस तरह से कहर नहीं बरपाया जिस तरह से यूरोपीय देशों और अमेरिका में इसने कहर बरपाया.