लॉकडाउन फेल करने की साजिश कर रहे हैं केजरीवाल? मजदूरों के पलायन से उठा सवाल

870

कोरोना वायरस का कहर दुनिया भर में जारी है. अभी तक इसकी चपेट में कई लोग आ चुके है जबकि कई लो अपनी जाने भी गंवा चुके है. जिसके चलते सरकार ने हालातों पर काबू पाने के लिए देशभर में लॉक डाउन कर दिया था. लेकिन शुक्रवार और शनिवार को दिल्ली के आनंद बिहार बस स्टैंड और गाजियाबाद से सटे बस स्टैंड पर ऐसा नजारा देखने को मिला जिसके बाद लॉक डाउन पूरी तरह से फैल होता दिख रहा है.

दरअसल हुआ यह कि शनिवार को पलायन करने वालो की संख्या इतनी बढ़ गयी कि दुनिया भर में यह चिंता का विषय बन गया. वहीं बिहार सरकार में जल संसाधन मंत्री संजय झा ने पलायन को लॉक डाउन को फेल करने की साजिश बताया. उन्होंने कहा कि  सवाल यह कि क्या बिहार और उत्तर प्रदेश यानि पूर्वांचलवासियों को उपयोग अरविंद केजरीवाल ने सिर्फ वोट के लिए किया, जब संकट की घड़ी आई तो पराई हो गई दिल्ली सरकार? इसके अलावा उन्होंने बताया कि लॉक डाउन के पहले दिन ही बिहार सरकार ने 100 करोड़ रूपए भी जारी कर दिए थे. ताकि किसी को भी दिक्कत न हो और इस राशि से लोगो को खाना पानी मिल सके.

इसके अलावा उन्होंने कहा कि हमे दिल्ली से लोगो के फ़ोन आये है उनका कहना है कि वहां पर बिजली पानी के कनेक्शन काट दिए गए है और कहा है 3 महीने तक लॉक डाउन चलेगा. जिसकी वजह से वहां रह रहे पूर्वांचलवासियों को पलायन करना पड़ रहा है क्यूंकि उनके पास न तो खाने के लिए राशन है और न ही पैसे बचे. ऐसे हालातों में वो क्या करे. वहीं बीजेपी सांसद गौतम गंभीर ने कहा भी केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर दिल्ली नहीं बचेगी तो झूठ कहां बेचोगे.

गौरतलब है कई जगहों पर मजदुर रहते है. लेकिन दिल्ली के अलावा कही और किसी के भी पलायन करने की कोई खबर नहीं है. ऐसे में सियासी बयानबाजी तेज़ हो गयी है जिसके बाद यह देखना होगा कि सरकार इस समस्या को कैसे हल करती है. वहीं कोरोना वायरस लगातार देश भर में अपने पैर पसरता जा रहा है.