लॉकडाउन में गलती से भी न करें शराब की तस्करी, पड़ सकता है बहुत महंगा !

कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद भी कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. भारत में अब पिछले दिनों के मुकाबले मई महीने में जबरदस्त मरीजों की संख्या बढ़ रही है जिसने सरकार की चिंता और बढ़ा दी है. हालाँकि सरकार ने 17 मई तक के लिए लॉकडाउन को आगे बढ़ा दिया है लेकिन अभी की हालत देखकर यही कहा जा सकता है कि लॉकडाउन और आगे बढ़ाया जा सकता है.

दरअसल लॉकडाउन को तीसरे चरण में बढ़ाने के बाद सरकार ने कई मामलों में छूट भी दी थी, जिसके बाद से ही हर दिन मरीजों की संख्या जबरदस्त बढ़ रही है. पिछले 24 घंटों में कोरोना के मरीजों की संख्या 3300 से ज्यादा बढ़ी है जिसके बाद अब भारत में 56 हजार से भी ज्यादा लोग इससे पीड़ित हो चुके हैं. सरकार ने 4 मई से शराब की बिक्री पर से लगी रोक को हटा दिया था जिसके बाद ज्यादातर राज्यों में शराब की जबरदस्त बिक्री हुई और राज्य सरकारों को जबरदस्त फायदा हुआ.

शराब खरीदने के लिए लोग 2-3 किलोमीटर तक की लंबी लाइन में लग रहे हैं. कुछ लोग तो एक साथ ही शराब का ज्यादा स्टॉक कर रहे हैं तो ऐसे लोगों को बता दें एक बड़ी खबर आ रही है. लॉकडाउन के दौरान अगर कोई व्यक्ति शराब की तस्करी करता है तो उसे ये काम करना बहुत भारी पड़ सकता है. क्योंकि ज्यादा शराब खरीदना तो गैर क़ानूनी नहीं है लेकिन उसकी तस्करी करना गैर क़ानूनी है.

गौरतलब है कि अगर कोई व्यक्ति शराब एक साथ ज्यादा मात्रा में खरीदकर उसकी तस्करी करता है तो आबकारी अधिनियम की धारा 60 क के तहत उसके खिलाफ मामला दर्ज बड़ी कार्रवाई की जा सकती है. यह काम गैर जमानती अपराध की श्रेणी में आता है. इस काम के चलते आपको जेल तक हो सकती है. इसीलिए ऐसा कोई काम न करें जिससे आपको परेशानी हो जाये. साथ ही आजीवन जेल और 10 लाख रूपये तक का जुर्माना लग सकता है.