12.2 C
Noida

चॉपर क्रैश के बाद यह थे सीडीएस विपिन रावत के आखिरी शब्द, अस्पताल भी नहीं पहुंच पाए थे

सेना का चॉपर बुधवार को तमिलनाडु के कुन्नूर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिसमें देश ने अपने सीडीएस जनरल बिपिन रावत समेत 13 लोगों को खो दिया। इस चौपर में सीडीएस बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत भी मौजूद थी। सेना के कॉप्टर के हादसे की जानकारी लोगों को जैसे ही लगी, सबकी सांसे थम गई थी. तब सब बस यही याचना कर रहे थे कि बिपिन रावत, उनकी महिला मधुलिका रावत और कॉप्टर में मौजूद 11 अन्य लोग सुरक्षित रहें और उन्हें बचाया जा सकता हो लेकिन कहते हैं ना होनी को कौन टाल सकता है. इस दुर्घटना ने देश ही नहीं पूरी दुनिया में गम का माहौल पैदा कर दिया है।

वहीं इस हादसे से जुड़ी एक और जानकारी समक्ष आई है. ऐसा दावा है कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत की सांसे हेलीकॉप्टर क्रैश के बाद भी चल रही थी। बचाव कर्मियों के दल में से जो व्यक्ति विपिन रावत के पास पहुंचा था उसने बताया कि ‘हमने 2 लोगों को जिंदा बचा लिया था, जिनमें से एक सीडीएस बिपिन रावत भी थे. उन्होंने धीमी आवाज में अपना नाम बोला। लेकिन अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में ही उन्होंने अपना दम तोड़ दिया। हम उस समय जीवित बचाए गए दूसरे व्यक्ति की पहचान नहीं कर सके।


बचाव कर्मियों का कहना था कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत को अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में ही उन्होंने दम तोड़ दिया। वहां पहुंची बचाव कर्मियों की टीम ने यह भी बताया कि जलते हवाई जहाज के मलबे को बुझाने के लिए दमकल की मशीन को दुर्घटना स्थल तक ले जाने के लिए कोई रास्ता नहीं था. वे पास के घरों और नाले से पानी लाकर कॉप्टर में लगी आग को बुझाने का प्रयास कर रहे थे।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
12,256FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles