अब बेंगलुरु में लह’राए ‘फ्री कश्मीर पोस्टर’ पुलिस ने महिला को किया गिर’फ्तार

923

बेंगलुरू से अभी-अभी एक खबर सामने आई है. जहां लोग सीएए और कश्मीर को लेकर ब’वाल करते रहते है. इसका ताजा उदाहरण कर्नाटक के बेंगलुरू से सामने आया है. बेंगलुरू में शुक्रवार को एक कार्यक्रम के दौरान एक महिला पो’स्टर लेकर प्रद’र्शन कर रही थी. उन पोस्टर पर लिखा था कि ‘कश्मी’र मु’क्ति’, ‘दलि’त मु’क्ति’ लिखा था. उस महिला को पुलिस ने हिरा’सत में ले लिया है.ये जानकारी पुलिस द्वारा दी गई है.

ठीक एक दिन पहले बेंगलुरु में ही सीएए के खि’लाफ एक महिला ने प्रद’र्शन के दौरान ‘पाकि’स्तान जिं’दाबाद’ के ना’रे लगाए थे. शुक्रवार के दिन ‘हिंदू जागरण वेदिके’ ने प्रद’र्शन आयोजित किया था. इसी प्रद’र्शन के दौरान ‘क’श्मीर मु’क्ति’, ‘दलि’त मु’क्ति’ ना’रे लिखे पोस्टर हाँथ में थामे प्रद’र्शन’कारियों के बीच बैठी महिला दिखाई दी.

बता दें पुलिस प्रमुख भास्कर राव ने कहा कि ‘वेदिके के सदस्यों ने महिला को वहां से चले जाने को कहा था.’ जिसके बाद उस प्रद’र्शन’कारी महिला को वहां से हटा दिया गया था. राव ने पत्रकारों से कहा, ‘महिला की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उसे हिरा’सत में ले लिया गया है. हम उसके बारे में जानकारी जुटाएंगे, कि वह कहां रहती है और उसके पीछे कौन है.’? राव का मानना है कि उस महिला ने नारे’बाजी नहीं की थी.

पुलिस का कहना है कि उस महिला के हांथ में जो पोस्टर थे, उनमें अंग्रेजी और कन्नड़ भाषा में ‘कश्मीर मुक्ति’, ‘दलित मुक्ति’ और ‘मुस्लिम मुक्ति’ ना’रे लिखे थे. जब ये सवाल पुलिस से पूछा गया कि क्या उस महिला को गिर’फ्तार किया गया है. तो पुलिस आयुक्त ने कहा कि जांच होने दीजिये. थोड़ा इंतजार करीये जां’च के बाद सब कुछ आपके सामने आ जायेगा. उन्होंने कहा कि अभी ‘यह कहना जल्दबाजी होगी, क्योंकि उसे कुछ समय पहले ही हिरा’सत में लिया गया है.

अगर महिला के ऊपर आरो’प सिद्ध होते हैं. तो उसपर क’ठोर से क’ठोर कार्य’वाई की जायेगी. अभी उस महिला की जां’च पड़’ताल की जा रही है. जो कुछ भी फैसला होगा आप सबके सामने आ जायेगा थोड़ा वक्त लगेगा.