राहुल ने पूछा ‘क्या चीन ने लद्दाख में कुछ जमीन पर कब्जा कर लिया’, लद्दाख के MP के जवाब ने राहुल को शर्मसार कर दिया

6723

लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी तनाव पर राहुल गाँधी इनदिनों खूब बयानबाजी कर रहे हैं और मोदी सरकार पर निशाना साध रहे हैं. राहुल के बयान विशुद्ध राजनीतिक हैं और भारतीय सेना का मनोबल गिराने वाला है. इसके लिए पूर्व सैन्य अधिकारीयों के एक समूह ने राहुल गाँधी की आलोचना भी की. राहुल गाँधी ने बीते दिनों सवाल उठाया था कि क्या चीन में लद्दाख में कुछ जमीन कर कब्ज़ा कर लिया है? लद्दाख के भाजपा सांसद जामयांग सेरिंग नामग्याल ने न सिर्फ राहुल गाँधी को करारा जवाब दिया बाकि अपने जवाब से कांग्रेस के पुराने ज़ख्मों को कुरेदते हुए राहुल गांधी को शर्मसार भी कर दिया.

नामग्याल ने ट्वीट कर राहुल गाँधी को करारा जवाब देते हुए कहा, ”हां, चीन ने ये इलाके कब्‍जाए हैं.’ अपने इस ट्वीट के साथ उन्होंने दो तस्वीरें भी शेयर की. और दावा किये कि चीन ने ये इलाके कांग्रेस के शासन के वक़्त कब्जा लिए थे. दूसरी तस्वीर में उन्होंने उन इलाकों की जानकारी दी जिसे कांग्रेस के शासन के वक़्त चीन ने कब्ज़ा लिए थे.

  • 1962 में कांग्रेस राज के दौरान अक्‍साई चिन (37,244 किलोमीटर)।
  • यूपीए राज में 2008 तक चुमूर इलाके के तिया पैंगनक और चाबजी घाटी (250 मीटर लंबाई)
  • यूपीए काल में 2008 में चीनी सीना ने देमजोक में जोरावर किले को ध्‍वस्‍त किया और 2012 में PLA ने ऑब्‍जर्विंग पॉइंट बना लिया। 13 सीमेंटेड घरों के साथ चीनी/न्‍यू देमजोक/कॉलोनी बसी।
  • यूपीए राज में भारत ने दुंगटी और देमचोक के बीच दूम चेले (एंशियंट ट्रेड पॉइंट) को गंवाया

नामग्याल ने इस ट्वीट के जरिये न सिर्फ राहुल गाँधी को आइना दिखाया बल्कि उनको शर्मसार भी कर दिया. राहुल गाँधी बड़ी ही चालाकी से अपने परनाना के करतूतों को भूल जाने का ढोंग करे हैं. राहुल गाँधी उस बात का जिक्र भी नहीं करे कि किस किस तरह नेहरू ने तिब्बत और अक्साई चीन थाली में परोस कर चीन को दे दिया. राहुल ये भूल जाते हैं कि उनकी पार्टी के शासन काल में सीमाई इलाकों के इन्फ्रास्ट्रक्चर को किस अरह से नज़र अंदाज किया गया और चीन को मजबूत होने का मौका दिया गया.