LAC पर चीन की हरकत के बीच भारतीय सेना ने बढ़ायी अपनी तैनाती

भारत और चीन के बीच पिछले महीने से झ’ड़प के बाद से शुरू हुआ तनाव दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है. दरअसल 5 मई को और 15 जून को हुई झड़’क के बाद से स्थिति काफी ज्यादा बेकाबू हो गयी है. जिसकी वजह से अब तनाव कम होने की जगह बढ़ता ही जा रहा है. ऐसे में दोनों देशों के बीच सेनाओं की लगातार बातचीत हो रही है. ताकि मसले को सुलझा कर तनाव कम किया जा सके.

वही चीन की तरफ से बातचीत के दौर में एक और हरकत सामने आई है. जिसके बाद अब स्थिति अक्टूबर से पहले ठीक होने वाली नहीं नजर आ रही है. बता दें चीन की ओर से सेना के दो डिविजन की तैनाती भारतीय सीमा पर की गई है वही इसके जवाब में भारत की तरफ से भी भारतीय सेना की तैनाती बढ़ा दी गयी है.

दरअसल चीन के तिब्बत और शिनजियांग प्रांत में चीन के 10 हजार से ज्यादा सैनिक युद्धा’भ्यास कर रहे है. जिस वजह से सीमा पर चीन की हर गतिविधि पर भारतीय सुरक्षा एजेंसी अपनी नजर बनाये हुए है और इसी कारण से भारत की तरफ से भी सेना की तैनाती बढ़ा दी गयी है.

इसके अलावा गलवान घाटी, पेट्रोलिंग प्वाइंट-15, पैंगॉन्ग त्सो और फिंगर एरिया में भारतीय सेना ने अपनी तैनाती बढ़ा दी है. साथ ही एक ब्रिगेड जितनी जवानों की तैनाती भी की है. साथ ही साथ रणनीति प्वाइंट्स पर अपनी तैनाती के अलावा टैंक-ह’थियार को भी पहुंचाया जा रहा है. वहीं चीन ने नॉर्दन शिनजियांग प्रांत में अपने अतिरिक्त डिविजन को भी एलएसी पर लाने का फैसला किया है. चीनी सेना का अतिरिक्त डिविजन 48 घंटे में भारतीय पो’जिशन पर पहुंच सकता है.

जाहिर है जिस तरीके से चीन अपनी तैनाती बढ़ते जा रहा है उससे श’क हो रहा है कि चीन फिर से भारत के खिलाफ कोई गहरी चाल तो नहीं चल रहा. वही भारतीय सेना के लिए भी संसाधनों का पूरा इंतजाम LAC पर किया जा रहा है. ताकि चीन की हरकत का बखूबी जवाब दिया जा सके.