प्रवासी मजदूरों के लिए चलाये गए श्रमिक एक्सप्रेस में एक मजदूर की मौ’त हो जाने से मचा हड़कंप, कोरोना के डर से पुलिस…

1966

लॉकडाउन की वजह से फंसे प्रवासी मजदूरों को घर पहुँचाने के लिए रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेन चला रही है. इस ट्रेन की मदद से दुसरे राज्यों में फंसे लाखों मजदूर अब तक अपने अपने घर पहुँच चुके हैं और कई मजदूर आने वाले दिनों में पहुँच जाएंगे. लेकिन सोमवार को पुणे से प्रयागराज जा रही एक श्रमिक एक्सप्रेस में हड़कंप मच गया. उस ट्रेन में एक यात्री की मौ’त हो गई. सतना स्टेशन पर जब ट्रेन रुकी हो यात्री का श’व देखते ही अफरा तफरी मच गई. ट्रेन से मजदूर के श’व को उतारने के लिए भी कोई तैयार नहीं था. सबको इस बात का डर लग रहा था कि कहीं मजदूर की मौ’त कोरोना की वजह से न हुई हो.

सतना स्टेशन पर श’व नहीं उतारा जा सका. सतना रेलवे स्ट्रेशन से ट्रेन छूटने के बाद उसे पश्चिम मध्य रेलवे के मझगंवा स्टेशन पर रोका गया. जहां जीआरपी, आरपीएफ, जिला पुलिस बल और चिकित्सा दल की मौजूदगी में श’व को ट्रेन से उतारा गया. पुलिस भी कोरोना के डर से कोच में प्रवेश करने से हिचक रही थी. इस घटना की खबर जैसे ही ट्रेन में फैली, यात्रा कर रहे हज़ारों मजदूर दहशत में आ गए. इस दौरान मझगंवा स्टेशन पर ट्रेन करीब 3 घंटे तक खड़ी रही. मृ’तक मजदूर यूपी के गोंडा जिले का रहने वाला था. ट्रेन में उसके 2 साथी भी थे.

शुरूआती जांच में पता चला कि मजदूर की मौ’त सतना स्टेशन से पहले ही हो गई थी और ट्रेन में सवाल रेलवे कर्मियों को इसकी सूचना थी. लेकिन इसके बाद भी ट्रेन को सतना से रवाना कर दिया गया और मजदूर का श’व ट्रेन में ही पड़ा रहा. सतना से आगे बढ़कर जब ट्रेन मझगंवा स्टेशन पहुंची तो वहां पर मृ’तक मजदूर के श’व को उतारा गया और साथ ही उसके दो साथियों को भी उतारा गया. मृ’तक के परिजनों को सूचना दे दी गई है.