नेपाल को सीएम योगी ने दी थी चेतावनी, अब नेपाल ने सीएम योगी के लिए कही ये बात

1234

भारत और नेपाल के बीच रिश्ते मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं. नेपाल की वामपंथी सरकार चीन के इशारे पर भारत के साथ रिश्ते बिगाड़ने पर आमादा है. भारत के 395 वर्ग किलोमीटर के इलाके को अपने नक़्शे में शामिल करने के बाद नेपाल की संसद ने उसे संवैधानिक मान्यता भी दे दी. भारत ये अच्छी तरह जनता है कि नेपाल की अम्पंथी सरकार ये सब चीन की वामपंथी सरकार के इशारे पर कर रही है. नेपाल को चीन के करीब जाते देख उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नेपाल को चेतावनी दी थी और कहा था कि नेपाल याद रखे तिब्बत के साथ चीन ने क्या किया. अब योगी आदित्यनाथ के इस बयां के बाद नेपाल की प्रतिक्रिया आई है.

नेपाल के नए नक़्शे को संसद में मंजूरी मिलने के बाद नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने संसद को संबोधित करते हुए कहा, ‘अगर योगी आदित्यनाथ नेपाल को डराने की कोशिश कर रहे हैं और यह उचित नहीं है. उन्होंने आगे कहा, ‘मुख्यमंत्री के रूप में अगर वह ऐसी बात करते हैं तो यह आलोचना का विषय है. हम इसे नेपाल का अपमान समझते हैं. नेपाल ऐसी भाषा के लिए तैयार नहीं है. मैं योगीजी को याद दिलाना चाहूंगा कि हम इससे खुश नहीं हैं.

गौरतलब है कि गोरक्षपीठ के महंत और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी ने नेपाली सरकार को आगाह करते हुए कहा था कि उसे अपने देश की राजनैतिक सीमाएं तय करने से पहले परिणामों के बारे में भी सोच लेना चाहिए. उन्होंने कहा था कि भारत और नेपाल भले ही दो देश हों लेकिन यह एक ही आत्मा हैं।. दोनों देशों के बीच सदियों पुराने सांस्कृतिक रिश्ते हैं, जो सीमाओं के बंधन से तय नहीं हो सकते. उन्हें यह भी याद करना चाहिए कि तिब्बत का क्या हश्र हुआ?