अब राज ठाकरे फंसे ED के शिकंजे में, मुंबई में तनाव

955

ऐसा लग रहा है कि इन दिनों नेताओं के ग्रह नक्षत्र बहुत ही बुरे चल रहे हैं. पहले चिदंबरम को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया और अब महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के सुप्रीमो राज ठाकरे पर ED ने अपना शिकंजा कसा.  राज ठाकरे अपने बेटे और बेटी के साथ ED कार्यालय पहुंचे . राज ठाकरे से यह पूछताछ कोहिनूर सीटीएनएल इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी में आईएल ऐंड एफएस द्वारा 450 करोड़ रुपये की इक्विटी निवेश और कर्ज से जुड़ी कथित अनियमियतताओं की जांच के सिलसिले में हो रही है.

ED पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मनोहर जोशी के बेटे उन्मेश जोशी के स्वामित्व वाले कोहिनूर सीटीएनएल में 850 करोड़ रुपये से अधिक के आईएल एंड एफएस (IL&FS) के ऋण और निवेश की कथित अनियमितताओं की जांच कर रहा है.  कोहिनूर सीटीएनएल एक रियलिटी क्षेत्र की कंपनी है जो पश्चिम दादर में कोहिनूर स्क्वॉयर टॉवर का निर्माण कर रही है.

उन्मेश जोशी, ठाकरे और उनके सहयोगी ने एक कन्सोर्टियम गठित किया था। इसमें आईएल ऐंड एफएस ग्रुप ने भी काफी बड़ी रकम निवेश की थी।  आईएल ऐंड एफएस ग्रुप ने उनकी कंपनी में 225 करोड़ रुपये का निवेश किया था. उनकी 421 करोड़ रुपये में विवादास्पद कोहिनूर मिल्स नंबर-3 खरीदने की योजना थी, लेकिन आईएल एंड एफएस ने 2008 में अचानक इस सौदे से हाथ पीछे खींच लिए और महज 90 करोड़ रुपये में अपने शेयरों को बेच दिया. बाद में राज ठाकरे भी अपने शेयर बेचने के बाद इससे बाहर निकल गए.

ईडी के मनी लॉन्डरिंग जांच में आईएल ऐंड एफएस के टॉप अधिकारियों पर आरोप लगाया है कि बिना जांच के अलग-अलग प्राइवेट कंपनियों के जरिए लोन बांटे गए.