कैसे हुई पूरी एयर स्ट्राइक की Planning

424

बीते 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के 12 दिन के भीतर भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान को सबक सिखा दिया है…. वायुसेना ने मंगलवार तड़के पाकिस्तान में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को तबाह किया… जानकारी के मुताबिक वायुसेना के करीब 12 मिराज विमानों ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया…वहीं हमले में 300 से ज्यादा आतंकियों के मारे जाने की संभावना है. दिलचस्प यह है कि पाकिस्तान की ओर से हमले की बात स्वीकार ली गई है…हालांकि पाकिस्तान ने किसी भी तरह के नुकसान की बात मानने से इंकार कर दिया है…अब आइए जानते हैं कि भारत ने कैसे इस पराक्रम को अंजाम दिया…

15 फरवरी : पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारतीय वायुसेना के एयर चीफ मार्शल बीरेंद्र सिंह धनोआ ने पाकिस्तान को जवाब देने के लिए एयरस्ट्राइक का प्रपोजल सरकार रखा…उसके बाद इस प्रपोजल को सरकार ने तुरंत मंजूरी दे दी…

फिर 16-20 फरवरी :  को भारतीय एयरफोर्स और आर्मी ने हेरॉन ड्रोन के साथ नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर हवाई निगरानी शुरू कर दी…

20-22 फरवरी : के  दौरान भारतीय वायुसेना और इंटेलिजेंस एजेंसियों ने स्ट्राइक के लिए संभावित साइट्स को निर्धारित किया…

21 फरवरी : राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार अजीत डोभाल की ओर से एयरस्ट्राइक के लिए लक्ष्य को निर्धारित किया गया…

22 फरवरी :  भारतीय वायुसेना के 1 स्क्वाड्रन ‘टाइगर्स’ और 7  स्क्वाड्रन ‘बैटल एक्सिस’ को स्ट्राइक मिशन के लिए एक्टिव किया गया. इसके अलावा 2 दो मिराज स्क्वाड्रन मिशन के लिए 12 जेट चुने गए.

24 फरवरी :   पंजाब के भटिंडा से वार्निंग जेट और यूपी के आगरा से मिड एयर रिफ्यूलिंग का देश के भीतर ट्रायल किया गया.

25 फरवरी :  इस दिन ऑपरेशन की शुरुआत करते हुए 12 मिराज विमान को तैयार किया गया… स्ट्राइक से पहले मिराज पायलट ने गोल्स कंफर्म किए . पाकिस्तान के भीतर मुजफ्फराबाद में लेसर गाइडेड बमों के जरिए हमला किया गया. रात 3.20 बजे से 4 बजे के बीच इस कारवाही को अंजाम दिया गया.

26 फरवरी : राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने पीएम नरेंद्र मोदी को इस ऑपरेशन के बारे में जानकारी दी..पर हमारी सेना और सरकार ने उसके बाद कहा की हमारी लड़ाई ना पाकिस्तान आर्मी से है ना पाकिस्तान के लोगों से हमारी लड़ाई सिर्फ और सिर्फ आतंकवाद के खिलाफ है.