बीजेपी को मात देने के लिए केजरीवाल ने चली नई चाल,कहा “मैं कट्टर…”

1046

दिल्ली विधानसभा 2020 का चुनाव अपने आखरी पड़ाव पर है. सभी पार्टीयां अपनी जोर आजमाईश कर रही है अपने चुनाव को साधने के लिए एक दुसरे पर अर्रोप मण रही है. आज के हालात को देखते हुए दिल्ली में विधानसभा चुनाव एक नाट्कीय मोड़ पर आ कर खड़ा हो गया है. जहां ये लग रहा था की दिल्ली में आम आदमी पार्टी आराम से सत्ता की कुर्सी पर काबिज हो जाएगी. लेकिन बीजेपी के स्टार प्रचारक योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के चुनाव मैदान में उतरने के बाद दोनों लोगों दिल्ली के चुनाव मैदान पर खुल कर बल्लेबाजी करना शुरू किया तो चुनाव की हवा को अपनी तरफ मोड़ लिया है. ये काबिलियत दोनों के अन्दर साफ़ नजर आती हैं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल कुछ दिन पहले तक अपने काम को लेकर वोट मांगते हुए नजर आये. लेकिन मोदी और योगी के प्रचार के बाद केजरीवाल ने एक न्यूज़ चैनल को इंटरव्यू देकर बताते हुए नजर आये कि मैं भी कट्टर हनुमानभक्त और अब खट्टर राष्ट्रभक्त है. चुनावी मौसम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल  अब कुछ और ‘कट्टर’ हो गए हैं. केजरीवाल को शायद अब ये लगने लगा है कि दिल्ली को फ़तेह करने के लिए हिंदुत्व का एजेंडा अपनाना पडेगा.

पिछले दिनों खुद को कट्टर हनुमानभक्त बताने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री और नई दिल्ली सीट से आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार अरविंद केजरीवाल ने अब खुद को कट्टर राष्ट्रभक्त बताया है. लेकिन ये बात कुछ समझ में नही आ रही है क्योकि केजरीवाल ने एक मंदिर तुडवाया था और अब चुनाव आते ही भगवान और  मंदिर की याद आने लगी है.

अरविन्द केजरीवाल ने ये भी कहा की अगर बच्चे है या कॉलेज के स्टूडेंट हैं तो उनको देश भक्ति के बारे में पत्ता होना चाहिए और उसके साथ ही उन्हें कट्टर देशभक्त होना चाहिए. केजरीवाल ने कहा की हम देश भक्त के लिए पाठ्यक्रम लायेंगे और उनको इसके बारे में बताएँगे. दरअसल एक बात ये सामने आई है कि केजरीवाल का हिन्दूत्व का एजेंडा अपनाना शायद एक चुनावी लॉलीपॉप ही समझा जा सकता है. अब बाकि तो चुनाव परिणाम आने के बाद ही तस्वीर सामने आयेगी.