सीलिंग को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल कर रहे थे लोगों को गुमराह, लोगों ने जमकर लगाईं फटकार

495

दिल्ली में सीलिंग को लेकर काफी बवाल मचा हुआ है. दिल्ली के मायापुरी इलाके में डीएमआरसी के अधिकारी 850 कम्नियों को सील करने पहुंचे थे जिसके बाद काफी बवाल हुआ, व्यापारियों और पुलिस के बीच झडप हुई और पुलिस को बल का इस्तेमाल करना पड़ा. जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया इस वीडियो के सामने आने के बाद केजरीवाल इसपर राजनीति करने लगे. जिसके बाद लोगों ने केजरीवाल की जमकर खिल्ली उड़ाई. दरअसल एनजीटी के आदेश के बाद डीएमसी के अधिकारी पुलिस बल के साथ कम्पनियों पर ताला लगाने पहुंचे. उन्हें पहले से ही हंगामे का अंदेशा था. इसलिए मौके पर दिल्ली पुलिस की टीम के अलावा सीआरपीएफ और आईटीबीपी के जवान भी मौजूद थे. जैसे की उम्मीद थी तो हंगामा भी हुआ.

इसके बाद पुलिस वालों ने बल का प्रयोग किया. जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया. इसी पर केजरीवाल ने राजनीति करने की कोशिश की उन्होंने ट्वीटर पर लिखा कि अगर दिल्ली पूर्ण राज्य होती तो हम 24 घंटे में सीलिंग रुकवा देते।5 साल में केंद्र की भाजपा सरकार ने दिल्ली व्यापारियों पर ख़ूब ज़ुल्म ढाए हैं मेरी दिल्ली के व्यापारियों से अपील- वोट डालने जाओ तो एक एक लाठी का बदला लेना। इस बार झाड़ू को वोट देना ताकि भविष्य में सीलिंग ना हो सके…. इसी के बाद लोगों ने केजरीवाल जी कैसे मजे लिए आइये हम आपको बताते हैं…

अशोक तनवर ने लिखा कि ये आदमी मायापुरी निवासियों के बच्चों और बुजुर्गों की बीमारियों से आंखें बंद करके, व्यापारियों से वोट मांग रहा है। इस बार मायापुरी निवासी झाड़ू मारेंगे आपके सपनों पर एक्सीडेन्टल चीफ मिनिस्टर जनाब। मंंदिरो की बिजली कटवाने वाले और मस्जिदों को 44,000/- रुपये महीना देने वाले इंतजार कर प्रदीप नारायण लिख रहे हैं कि मिर्ची फेकवाने वाला, चप्पल खाने वाला अपने अधिकारीयों को पीटने वाला, अपने साथियों को लात मारकर बाहर निकालने वाला, आज नोट के लिए दिल्ली के लोगों पर लाठियां चलवाने का काम किया है, और वोट के लिए खतरनाक शाजिस रची गई जैसे फोन करके बीजेपी को नाम लेकर बोला आपका नाम काट दिया गया

मनोज नाम के यूजर ने लिखा कि सड़ जी, अपने मोहल्ला क्लिनिक में मरीजो को बुलाने का ये क्रांतिकारी फार्मूला है आपका? आदित्य रमेश नाम के यूजर ने लिखा कि ये लोग तो व्यापारी हैं… पर आप तो गद्दार हो… पहले फ़ौज से सबूत मांगते हो… फिर गलत चीज़ को सही ठहरा के वोट की अपील करते हो…!!! शर्म आनी चाहिए… राकेश लिखते हैं कि शीला दीक्षित के खिलाफ वाले सबूत किस पेंट में हैं. वो पेंट धोने के लिए डाल दी क्या.. कोई नही अब दिल्ली वालों की बारी है..

संतोष झा लिखते हैं कि अपमान दिल्ली का तब हो गया जब आप अन्ना के कन्धे पे सवार होकर दिल्ली के कुर्सी पे काबिज हो गये,इससे बुरा और क्या होगा और खुद मोहल्ला क्लीनिक छोडकर इलाज के लिये बेंगलोर जाते हो।ये व्यापारी लोग को तुम्हारे पे भडके है । इसके साथ ही लोगों ने केजरीवाल के लिए ऐसे ऐसे शब्दों का प्रयोग किया जिसे हम एक जिम्मेदार संस्थान होने के नाते नही दिखा सकते.. लेकिन केजरीवाल के खिलाफ लोगों में रोष साफ़ दिखाई दे रहा हैं.

कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर भी लोगों ने केजरीवाल को जमकर ट्रोल किया और उनका मजाक बनाया. और अब केजरीवाल एक बार फिर लोगों के निशाने पर आ गये. दरअसल केजरीवाल कई मौकों पर जन भावना के विपरीत जानकार बयानबाजी और फैसले लिए है, साथ ही हर बात में पीएम मोदी को घेरने की कोशिश करते करते अब ऐसा लगने लगा है कि केजरीवाल की अहमियत अब लोगों में गिरने लगी है.