कश्मीर में आ’तंकि’यों का नि’शाना बने सरपंच की बेटी ने दिया मुंहतोड़ जवाब, ‘न मेरा बाप किसी से डरता था और न मैं…

1646

जम्मू और कश्मीर में सुरक्षा बल आ’तंकि’यों की सफाई में लगे हैं. बीते एक हफ्ते में सुरक्षा बलों ने कई आ’तंकि’यों को जन्नत रवाना किया है. इससे बौखलाए आ’तंकी अब फिर से कश्मीरी पंडितों को निशाना बनाने लगे हैं. सोमवार को आ’तंकि’यों ने कश्मीर के एक सरपंच अजय पंडिता की ह’त्या कर दी. इससे घाटी में अपनी वापसी का इंतज़ार कर रहे कश्मीरी पंडितों में एक बार फिर खौ’फ की लहर दौड़ गई. लेकिन मृत सरपंच अजय पंडिता की बेटी ने आ’तंकि’यों को मुंहतोड़ जवाब दिया है और ये बता दिया है कि आ’तंकि’यों की गोली उसके हौसलों को नहीं मा’र सकती.

सरपंच अजय पंडिता की बेटी शीन पंडिता ने आ’तंकि’यों को जवाब देते हुए कहा कि न मेरा बाप किसी से डरता था और न मैं किसी के बाप से डरती हूँ. हम कश्मीर वापस आयेंगे. शीन की नाराजगी सरकार से भी थी. उन्होंने कहा, ‘मेरे पिता ने सुरक्षा मांगी थी, कोई इंसान बिना वजह के सुरक्षा नहीं मांगता है. उन्होंने किसी वजह से सुरक्षा मांगी थी. सरकार की जिम्मेदारी थी उनको सुरक्षा देना. जो चीज उनको मिलनी चाहिए थी वो चीज वो मांग रहे थे, लेकिन मांगने के बाद भी नहीं मिली.’

उन्होंने कहा कि मेरे पिता को भारत से बहुत प्यार था. वो चाहते थे कि उनकी पहचान एक भारतीय की रहे इसलिए उन्होंने अपने नाम के साथ भारतीय लगा लिया था. मेरे पिता ने सिर्फ गांव से नहीं पूरे देश से प्यार किया. सरपंच की बेटी शीन ने कहा कि उन्होंने मेरे पिता को इसलिए मा’रा क्योंकि वो एक कश्मीरी पंडित थे, अब ये सरकार की जिम्मेदारी है कि वो मेरे पिता के ह’त्या’रों को ढूंढें. उन्होंने कहा कि कश्मीर उनकी मातृभूमि है. वो वहां क्यों नहीं जाएँ? लोगों को सुरक्षा देना सरकार की जिम्मेदारी है.