क’श्मीर मेरा है कहने पर स्वरा भास्कर और कुणाल कामरा को दर्द क्यों हो रहा है?

1010

जबसे भारत सरकार ने कश्मीर में सुरक्षा बालों की 100 टुकड़ियों को तैनात करने का फैसला किया है तबसे सियासी बवाल मचा हुआ है .राजनीतिक पार्टियाँ कश्मीर में कुछ बड़ा होने कि आशंका जाता रही हैं . देश की जनता भी सरकार के संभावित कदम को लेकर तरह तरह के कयास लगा रही है .इसी बीच रविवार की रात ट्विटर पर ट्रेंड चला हैशटैग कश्मीर मेरा है . इस ट्वीट को लेकर आम आदमी और सेलेब्रिटीज सभी कश्मीर मेरा है हैशटैग के साथ ट्वीट कर रहे थे . लेकिन कुछ लोग ऐसे भी थे जिन्हें कश्मीर मेरा है कहने पर दर्द हो रहा था.

कॉमेडियन कुणाल कामरा, सेलेक्टिव मुद्दों पर प्लेकार्ड लहराने वाली स्वरा भास्कर और एक पत्रकार है प्रशांत कनौजिया. अगर आपको याद नहीं आ रहा है तो बता दूँ कि ये वही पत्रकार हैं जो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जबरिया शादी कराना चाह रहे थे और इनको जेल में डाल दिया गया था .

बुद्धा इन अ ट्रैफिक जाम और द ताशकंद फाइल्स जैसी फ़िल्में बनाने वाले निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने भी कश्मीर मेरा है हैशटैग के साथ ट्वीट किया लेकिन ये बात कॉमेडियन कुनाल कामरा को शायद अच्छी नहीं लगी और उसने कह दिया “हाँ और 14 फ्लॉप फ़िल्में भी तेरी है.”

वैसे तो आप कुणाल कामरा को अच्छे से जानते होंगे लेकिन अगर आपको याद नहीं आ रहा तप आपको बता दें कि वही कुणाल कामरा जिसे हिन्दू देवी देवताओं पर जोक्स बनाने के लिए बीच सड़क पर घेर कर लोगों ने खरी खोटी सुनाई थी और वो सॉरी सॉरी बोल रहा था … ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था .

कुणाल कामरा के 14 फ्लॉप फिल्मों वाले ट्वीट को स्वरा भास्कर ने लाइक किया . स्वरा भास्कर जो सोशल मीडिया पर सेलेक्टिव आउटरेज के लिए जानी जाती है और अपने एजेंडे में फिट बैठने वाले मुद्दों पर प्लेकार्ड लहराती हुई निकल जाती है, कई फ्लॉप फिल्मों में अभिनय कर चुकी हैं  और छोटी –मोटी भूमिकाओं में अब भी नज़र आ जाती है . उन्हें भी शायद कश्मीर मेरा है हैशटैग से दिक्कत थी .

विवेक अग्निहोत्री के कश्मीर मेरा है ट्वीट पर पत्रकार प्रशांत कनौजिया ने उनसे कहा “कागज़ दिखा”. जिस पर विवेक ने जवाब दिया “आओ कभी हवेली पर” . उसके बाद प्रशांत कनौजिया के सुर बहक गए और उन्होंने कहा – “फ्लॉप फ़िल्म से हवेली नहीं बनती सत्ता की चाटूकारिता करके हवेली बनती है”

लेकिन इस बार प्रशांत को जवाब विवेक ने नहीं दिया बल्कि लोगों ने दिया . आशुतोष पालीवाल नाम के एक यूजर ने प्रशांत को जवाब देते हुए कहा – अपना अनुभव् बता रहा है चाटुकारिता कर के हवेली बनाने का. प्रशांत के ट्वीट में चाटुकारिता की वर्तनी गलत हो गई तो एक यूजर ने उन्हें कहा – *चाटुकारिता होता है ,  पढ़ ले,गलतियों में आरक्षण काम नहीं आएगा।

अभी तक इन लिबरल और इंटेलेक्चुअल गैंग को पीएम मोदी से दिक्कत थी और अब इनकी दिक्कत कश्मीर को मेरा कहने से भी हो रही है . धीरे धीरे एक दिन ऐसा आएगा जब इन्हें पुरे देश से दिक्कत होने लगेगी .