नाई, धोबी और ड्राइवर्स को लेकर कर्नाटक सरकार ने किया बहुत ही बड़ा ऐलान, दिए जायेंगे इतने हजार रूपये

कोरोना ने इस समय दुनियाभर के अधिकतर देशों को अपनी गिरफ्त में ले लिया है. चीन से फैले इस वायरस ने इस समय पूरी दुनिया को हिला दिया है और अपने सामने बड़े बड़े देशों को नतमस्तक कर दिया है. कोई भी देश अभी तक इस बीमारी का इलाज नहीं ढूंढ पाया है. न ही कहीं से वैक्सीन बनने की खबर आ रही है. भारत में केंद्र सरकार और राज्य सरकारें एक के बाद एक बड़े कदम उठा रही हैं.

जानकारी के लिए बता दें भारत में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते मोदी सरकार ने लॉकडाउन को 17 मई तक के लिए आगे बढ़ा दिया है लेकिन कुछ मामलों में जनता को छूट दी है ताकि लोग अपना काम कर सकें. वहीँ सरकार अन्य राज्यों में फंसे हुए लोगों को निकालने का काम भी कर रही है. साथ ही गरीब और मजदूर वर्ग के लोगों को हर संभव मदद भी दे रही है. इसी बीच एक बड़ी खबर कर्नाटक से आ रही है.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने बुधवार 6 मई को कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन से प्रभावित लोगों को लेकर आर्थिक मदद करने का ऐलान किया है. कर्नाटक सरकार ने इन लोगों को मदद करने के लिए 1600 करोड़ रूपये के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया है. इस पैकेज में मुख्य रूप से छोटे और मध्यम उद्योगों से जुड़े लोगों को लाभ मिल सकेगा. इसमें फूल कारोबारी, धोबी, हथकरघा बुनकर, टैक्सी चालक और नाई जैसे अन्य व्यवसाय से जुड़े लोग शामिल रहेंगे.

गौरतलब है कि फूल विक्रेताओं को उनकी फसल नुकसान के लिए प्रति हेक्टेयर 25000 रूपये की सहायता दी जाएगी. साथ ही नाई और धोबी को एक बार में ही 5000 रूपये का मुआवजा दिया जायेगा. इसी के साथ ऑटो और टैक्सी ड्राईवरों को भी 5000 का एक ही बार में मुआवजा दिया जायेगा. हथकरघा बुनकरों को सरकार उनके बैंक खाते में 2 हजार रूपये की राशि दी जाएगी. सीएम येदियुरप्पा ने कहा है कि सरकार की इस योजना के अंतर्गत 2.3 लाख नाइयों और 7.75 लाख ड्राईवरों को इस पैकेज द्वारा राहत दी जाएगी. वहीँ राज्य में 60000 धोबियों की संख्या भी आंकी गयी है. इसी के साथ 15.80 लाख लोग निर्माण क्षेत्र से पंजीकृत हैं ऐसे सभी लोगों को इस योजना का लाभ मिल सकेगा.