करीना कपूर खान कांग्रेस के टिकट पर भोपाल से लड़ेंगी चुनाव ?

497

अमिताभ बच्चन से लेकर विनोद खन्ना, शत्रुघ्न सिन्हा और मनोज तिवारी समेत अनेकों कलाकार नेतागिरी में अपने जलवे बिखेर चुके हैं. ताजा खबर है कि सैफ अली खान की पत्नी और बॉलीवुड की ग्लैमर गर्ल करीना कपूर खान कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ सकती हैं. लेकिन क्या भोपाल से फिल्म एक्ट्रेस करीना कपूर लोकसभा चुनाव लड़ेंगी. उन्हें कांग्रेस से टिकट दिए जाने की चर्चा है. पार्टी के कुछ नेता ऐसा चाहते हैं और अपनी इच्छा हाईकमान राहुल गांधी को बता चुके हैं. करीना के ससुर और पूर्व क्रिकेटर मंसूर अली खां पटौदी भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं. हालांकि वे हार गए थे.भोपाल के कुछ स्थानीय नेता बॉलीवुड की ग्लैमर गर्ल करीना को भोपाल से सांसद बनते देखना चाहते हैं.

इन नेताओं ने करीना को भोपाल से टिकट देने की मांग हाईकमान तक पहुंचा दी है. भोपाल केवल नवाब के लिए ही नहीं, जया बच्चन की वजह से भी पहचाना जाता है. जया बच्चन सियासत में काफी सक्रिय रहीं, लेकिन वे राज्यसभा और उत्तर प्रदेश में ज्यादा सक्रिय रहती हैं. भोपाल जया का मायका है. उनकी मां अभी भी भोपाल में रहती हैं. इसके पीछे उनका तर्क यही है कि अगर भोपाल सीट बीजेपी से छीनना है तो ऐसा ही कोई चेहरा कांग्रेस को यहां से उतारना होगा. करीना के ससुर और पूर्व क्रिकेटर मंसूर अली खां पटौदी 1991 में भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं. राजीव गांधी ने उन्हें टिकट दिया था और प्रचार के लिए भोपाल आए थे. हालांकि पटौदी चुनाव हार गए थे.

‘कांग्रेस के पास नही बचे नेता’- बीजेपी , कांग्रेस पार्षदों की मांग पर बीजेपी ने तंज कसा है और कहा है कि कांग्रेस के पास अब नेता नहीं बचे इसलिए अभिनेता के सहारे चुनाव लड़ना चाह रहे हैं.
भोपाल से बीजेपी सांसद आलोक संजर ने कहा कि ‘कांग्रेस के पास स्थानीय नेता नहीं बचे इसलिए मुम्बई से उम्मीदवार इंपोर्ट करने की जरूरत पड़ रही है. मुझे पूरा भरोसा है इस बार भी भोपाल की जनता बीजेपी को ही चुनेगी.’

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने से पार्टी कार्यकर्ता बेहद उत्साहित हैं. यही वजह है कि उनका मानना है पार्टी कार्यकर्ताओं के उत्साह , पटौदी खानदान के प्रभाव और करीना के ग्लैमर से आगामी लोकसभा चुनाव में भोपाल सीट जीती जा सकती है.भोपाल में युवा मतदाताओं की संख्या ज्यादा है. करीना वोट खींचने का माद्धा रखती हैं. भोपाल के नवाबी खानदान से अब उनका ताल्लुक है. भोपाल में अल्प संख्यक वोट ज़्यादा हैं, इसका भी फायदा पार्टी को मिलेगा.