सुप्रीम कोर्ट में कपिल सिब्बल ने केंद्र पर उठाए सवाल तो कोर्ट ने सिब्बल से ही पूछ लिया, ‘आपने प्रवासी मजदूरों की क्या मदद की?’

2844

देश में लॉकडाउन के कारण कई लोग इधर उधर फंस गए. जिसकी वजह से लोगो को काफी ज्यादा दि’क्कतों का सामना करना पड़ रहा है. दरअसल कोरोना वायरस का संक्र’मण इतना ज्यादा बढ़ चुका था की सरकार को तत्का’ल प्रभा’व से इस पर कार्यवाई करते हुए लॉकडाउन करना पड़ा. जिसकी वजह से देश के अलग अलग शहरों में प्रवासी मजदूर फं’स गए. और जब उनके पास खाने के लिए पैसे ख’त्म हो गए तो उन्होंने अपने गृह राज्यों के लिए प्रस्था’न कर दिया. जिसकी वजह से लाखों प्रवासी मजदूरों सड़कों पर आ गए.

जिसके बाद प्रवासी मजदूरों के मसले पर सुप्रीम कोर्ट में याचि’का दा’यर की गयी. जिस पर आज सुनवाई करते हुए SC ने वकील कपिल सिब्बल से ती’खे सवाल किये. दरअसल अदालत ने सिब्बल से पूंछा कि आपने इस सं’कट में क्या मदद की?. जिस पर जवाब देते हुए सिब्बल ने कहा कि चार करोड़. यही मेरा सहयोग है. ऐसी बातें ना करें. जिसके बाद कोर्ट ने कहा कि इस जगह को राजनीतिक फोर’म ना बनने दें. तब सिब्बल ने जवाब देते हुए कहा कि ये एक मान’वीय त्रास’दी है.

जिस पर कोर्ट ने और ती’खा सवाल करते हुए पूंछा कि आप (कपिल सिब्बल) किसकी ओर से पेश हो रहे हैं? जिसका पर सिब्बल बोले मैं सर्व हर जन आंदो’लन, दिल्ली श्रमि’क सं’गठन की ओर से आया हूं.

इसके अलावा बहस के दौरान जब केंद्र सरकार ने ओर से SC को बताया गया कि अभी तक 91 लाख मजदूरों को घर पहुंचाया गया है. तो इस पर सवाल खड़े करते हुए कपिल सिब्बल ने कहा कि देश में 4 करोड़ के आसपास प्रवासी मजदूर होगा. लेकिन सरकार कह रही है सिर्फ 91 लाख को घर पहुंचाया है, बाकी लोगों का क्या?

जाहिर है देश में प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्य पहुँचाने के लिए 3700 ट्रेनों को चलाया गया है. ताकि लोग अभी भी दूसरे राज्यों में फंसे हुए है. उनको सुरक्षित उनके घर पहुँचाया जा सके.