कहां से बेरोजगार कन्हैया कुमार के पास आए इतने लाख रुपय !

474

दिल्ली के जेएनयू छात्रसंघ से राजनीति की पारी शुरू करने वाले कन्हैया कुमार के पास न कोई घर है और न ही कोई गाड़ी है..यही नहीं कन्हैया बेरोजगार हैं..मतलब ये कि वो कोई भी काम-धंधा रेगुलर नहीं करते है..हालांकि उन्हें अपनी लिखी पुस्तकों और लेक्चर देने से सालाना करीब साढ़े आठ लाख रुपये की कमाई हो जाती है..जिससे खाने-पीने-पहनने भर का उनका काम चल जाता है…वहीं दूसरी तरफ 8 लाख की संपत्ति होने के बावजूद भी कन्हैया कुमार के पास गैंस सेलेंडर भरवाने के पैसे तक नहीं है..नही समझें..कोई ना हम समझाते है आपको..की पूरा मामला क्या है..

लोकसभा चुनाव 2019 में बेगूसराय लोकसभा सीट से बतौर भाकपा उम्मीदवार के रूप में चुनाव मैदान में उतरे कन्हैया कुमार बेरोजगार हैं..उनपर ये बेरोजगारी का थपा बार-बार हम नहीं लगा रहे है ब्लकि उन्होंने ये खुद लगाया है..नामांकन का पर्चा भरने के दौरान दिए गए हलफनामे के मुताबिक, कन्हैया के पास 24,000 रुपये नकद यानि कैश इन हैंड है और बैंक में लगभग साढ़े तीन लाख रुपये बचत है। 2017-18 में कन्हैया कुमार की आय लगभग 6 लाख 30 हजार रुपए जबकि 2018-19 में उनकी आय लगभग 2 लाख 28 हजार रुपए की रही..बेरोजगार कन्हैया कुमार अब तक 8 लाख से ज्यादा की कमाई कर चुके है..पिछले दो साल में बेरोजगारी के बावजूद 8 लाख रुपए से ज्यादा कमाने वाले कन्हैया अपने घर में एक गैस सिलिंडर तक नहीं खरीद कर दे पाते हैं..

दरअसल, पिछले दिनों एक चैनल को दिये इंटरव्यू में कन्हैया कुमार ने कहा था कि उनके घर चुल्हा पर खाना इसलिए बनता है क्योंकि सिलेन्डर बार-बार खत्म हो जाता है..जिसके बाद उनके पास एलपीजी सिलेन्डर को रिफिल करवाने के भी पैसे नहीं हो पाते हैं, लेकिन उनके इस हलफनामे के बाद लोगों के मन में यह सवाल उठ रहा है कि क्या वे जानबूझकर गरीब होने का नाटक कर रहे हैं, ताकि गरीब वोटर्स की सहानुभूति मिल सके.

हलफनामें के अनुसार, कन्हैया के पास कोई कृषि के लिए भूमि तक नहीं है, कन्हैया कुमार का बेगुसराय में एक घर भी है जिसकी कुल किमत मात्र 2 लाख रुपय बताई गई है..हालांकि, आपको बता दें कि कन्हैया कुमार अपनी गरीबी का भरपूर प्रचार कर रहे हैं ताकि वे अपनी छवि को एक गरीब, बेसहारा और आम आदमी के तौर पर दुनिया के सामने रख सके..लेकिन कन्हैया कुमार के इस भ्रामक प्रचार का तब पर्दाफाश होता है जब सोशल मीडिया पर लोग इस बात को उजागर करते है कि वे ट्वीट करने के लिए महंगे आईफोन का यूज करते हैं..

हलफनामे के मुताबिक, कन्हैया पर धार्मिक सद्भाव बिगाड़ने, सरकारी काम में बाधा पहुंचाने, अनाधिकृत सभा करने और देशद्रोह से संबंधित पांच आपराधिक मामले दर्ज हैं, जो अभी लंबित हैं..यहां आपका ये भी जानना जरूरी है कि कन्हैया कुमार फिलहाल बेल मतलब जमानत पर स्वतंत्र घूम पा रहे हैं। ‘टुकड़े टुकडे गैंग’ के कुख्यात लीडर कन्हैया पर 2016 में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में राष्ट्र विरोधी नारे लगाने का आरोप है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इस मामले में 1200 पन्नों का आरोप-पत्र भी दाखिल किया है..

उल्लेखनीय है कि कन्हैया ने पिछले दिनों क्राउड फंडिंग के माध्यम से अब तक 70 लाख रुपये से ज्यादा की राशि जुटाई है..बेगूसराय में कन्हैया का मुख्य मुकाबला राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार बीजेपी नेता गिरिराज सिंह से है..हालांकि आरजेडी के तनवीर हसन इस मुकाबले को त्रिकोणात्मक बनाने का हरसंभव प्रयास कर रहे हैं..