इस शहर में पुलिस सुबह 4 बजे से ही घर घर जा कर मांग रही है कागज़, लोगों में तरह तरह की चर्चाएँ

1172

कागज़ शब्द इन दिनों बहुत महत्वपूर्ण हो गया है इस देश में. कोई कह रहा है कागज़ दिखाना पड़ेगा और कोई कह रहा है कागज़ नहीं दिखाएँगे. हालांकि अभी देश में NRC लागू नहीं हुआ है लेकिन फिर भी कागज़ को लेकर हंगामा मचा हुआ है. इसी कागज़ के कारण दिल्ली से सटे गुडगाँव के कुछ बस्तियों और कॉलोनियों में तरह तरह की चर्चाएँ फैली हुई है.

गुडगाँव के कुछ बस्तियों और कॉलोनियों में पुलिस घर घर जा कर लोगों से फोटो वाली आईडी कार्ड मांग रही है. पुलिस कि इस कारवाई से तरह तरह की अफवाहें और चर्चाओं का बाज़ार गर्म हो गया है. हालाँकि पुलिस का कहना है कि ये रूटीन चेकिंग है. गणतंत्र दिवस से पहले हर साल पुलिस इस तरह का अभियान चलाती है. पुलिस का कहना है कि ऐसा अवैध घुसपैठियों की पहचान के लिए किया जा रहा है, लेकिन लोग इसे NRC से जुदा हुआ मान कर डर रहे हैं. हालाँकि अभी तक देश में NRC लागू नहीं हुआ है और न इसको लेकर कोई चर्चा है. क्योंकि NRC लागू होने से पहले इसे संसद से हो कर गुजरना होगा.

पुलिस का कहना है कि वो हर साल अभियान चलाती है लेकिन इस बार ये अभियान बड़े पैमाने पर चलाया जा रहा है क्योंकि इस बार हालात सुरक्षा को लेकर सक्रियता बढ़ी है. पुलिस का कहना है कि अबतक वे 1,500 लोगों के कागजात चेक कर चुकी है, लेकिन उनमें से कोई अवैध नहीं मिला. अफवाहें और चर्चाएँ पुलिस की टाइमिंग को लेकर भी फ़ैल रही है. पुलिस सुबह 4 बजे से लेकर 8 बजे तक घरों के दरवाजे खटखटा रही है. हालाँकि इस पर पुलिस का कहना है कि ये वो वक़्त है जब ज्यादातर लोग घरों पर ही होते हैं. फिर उसके बाद लोग अपने काम काज पर निकल जाते हैं. टिगरा, इस्लामपुर, समसपुर, घोसला, सरस्वती कुंज और आसपास के इलाकों में पुलिस का ये अभियान चल रहा है.