किसान बिल के वि’रोध पर नड्डा ने सा’धा कांग्रेस पर नि’शा’ना, कहा “पहले स’मर्थन में…”

64

देशभर में जहाँ एक तरफ कोरोना का क’हर बढ़ता ही जा रहा है. वही दूसरी तरफ अ’र्थवय’वस्था भी काफी ना’जुक हो गयी है. जिसकी वजह से स्थि’ति काफी ख़रा’ब हो गयी है. वही संसंद में सत्र भी शुरू हो चुका है. जिसमें कई मु’द्दों पर च’र्चा की जा रही है.

वही इस सब के बीच भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने तीन कृषि अध्या’देशों का सम’र्थन करते हुए कहा है कि इससे किसानों को बहुत फा’यदा मिलेगा. उन्होंने कहा कि ये तीनों ही अध्या’देश बहुत दू’र-दृ’ष्टि वाले हैं, इसलिए हम इन्हें बि’ल के रूप संसद में ला रहे हैं और पास कराने जा रहे हैं. नड्डा ने कहा कि ये तीनों ही बिल कृषि क्षे’त्र में नि’वेश बढ़ा’ने के लिए बहुत लाभ’कारी है.

इतना ही नहीं उन्होंने ये भी कहा कि आवश्य’क व’स्तु अधि’नियम की बात की जाए तो ये 1955 का है. उस व’क्त उप’ज का’फी कम थी, जो बहुत बढ़ गई है. ये बिल जब आया था तब उप’ज की क’मी थी. अब इसको डिरे’ग्यूलेट करते हुए अ’प’वाद की स्थि’ति का ध्या’न रखा गया है. इससे प्राइवेट सेक्टर भी निवे’श कर पाएगा. जिससे किसा’नो को अपनी उप’ज बे’हतर बेचने में भी सुवि’धा मिलेगी. साथ ही साथ बिल के जरिए ये जानकारी भी दी जाएगी कि किस जगह कितना दा’म चल रहा है और आगे चलकर क्या दा’म रहने वाला है. जिससे किसानो को तुल’ना करनाआसान होगा कि कहा ज्या’दा दा’म मिल रहा है.

वही नड्डा ने कांग्रेस पर भी पल’टवार करते हुए कहा कि आज कांग्रेस इसका वि’रोध कर रही है. जबकि इसी कांग्रेस ने 2013-14 में यूपीए की सरकार ने फू’ड और वे’जिटेब’ल्स को APMC से डि’नोटि’फाई कराया था. कांग्रेस ने 2019 के अपने घो’षणा पत्र में भी इसी तरह के फै’सले लेने का वा’दा किया था.