भाजपा को मिला नया अध्यक्ष, अब इनके ऊपर होगी भाजपा की जिम्मेदारी

1712

देश की सत्ताधारी पार्टी भाजपा को आज उसका नया अध्यक्ष मिल गया. पार्टी को बुलंदियों पर पहुंचाने के बाद अमित शाह अध्यक्ष पद की जिम्मेदारियों से आज मुक्त हो गए. उनके नेतृत्व ने भाजपा ने अपना स्वर्णिम काल देखा. भाजपा में एक व्यक्ति एक पद की परंपरा है. अमित शाह गृहमंत्री के पद पर हैं इसलिए अध्यक्ष पद की जिम्मेसारी उन्हें छोडनी पड़ी.

अब से भाजपा के अध्यक्ष होंगे जेपी नड्डा. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव के लिए जेपी नड्डा ने नामांकन कर दिया है. नड्डा का निर्विरोध अध्यक्ष चुना जाना तय है. क्योंकि भाजपा में सर्वसम्मति से अध्यक्ष पद के चुनाव की परंपरा रही है. पिछले कुछ महीनों से जेपी नड्डा भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष की भूमिका निभा रहे हैं. संघ की पृष्ठभूमि से निकले नड्डा बेहद लो प्रोफाइल रहते हैं और उनकी छवि भी साफ़ सुथरी है. वो भले ही लोकप्रिय नेता न माने जाते हों लेकिन संगठन पर उनकी तगड़ी पकड़ है. लोकसभा चुनाव में उन्होंने उत्तर प्रदेश में विपरीत परिश्थितियों के बावजूद भाजपा को 80 में से 62 सीटें दिला कर अपनी कुशल प्रबंधन क्षमता का परिचय दिया था.

बिहार में जन्मे जेपी नड्डा ने पटना से अपनी छात्र राजनीति की शुरुआत की और फिर भाजपा में इंट्री मारी. वो तीन बार हिमाचल प्रदेश विधानसभा में विधायक भी रहे. वो 1994 से 1998 तक वह प्रदेश की विधानसभा में बीजेपी विधायक दल के नेता भी रहे. जेपी नड्डा 1991 से ही पीएम मोदी के करीबी रहे हैं. जिस दौर में पीएम मोदी भाजपा के महासचिव थे उस दौर में जेपी नड्डा युवा मोर्चा की कमान संभाल रहे थे.