बरखा दत्त ने शेयर किया एक स्क्रीनशॉट और जेएनयू हिं’सा में फंस गई कांग्रेस

4520

रविवार की रात जेएनयू में जो हुआ वो सबने देखा. जिस तरह से नकाबपोश ह’म’लावर लाठी-डंडों के साथ कैम्पस में दाखिल हुए और छात्रों-टीचरों पर ह’म’ला कर आराम से कैम्पस से बाहर निकल गए उससे यूनिवर्सिटी प्रशासन के साथ साथ दिल्ली पुलिस पर भी सवाल उठ रहे हैं. लेफ्ट पार्टियाँ और छात्र संगठन ABVP पर आरोप लगा रहे हैं जबकि ABVP लेफ्ट संगठनों पर आरोप लगा रही है लेकिन इन सब के बीच सोशल मिडिया पर कुछ ऐसा हुआ जिससे इस पुरे का’ण्ड के पीछे एक प्री प्लांड साजिश का अंदाजा होना लगा कांग्रेस भी फंसती दिखी. जब कांग्रेस पर सवाल उठने लगे तो खुद को फंसता देख वो सफाई देने लगी. अब हम आपको बताते हैं पूरा मामला क्या है और कैसे कांग्रेस सवालों के घेरे में आ गई.

जेएनयू में ब’वा’ल के बाद सोशल मीडिया पर कई स्क्रीनशॉट्स वायरल होने लगे. ये स्क्रीनशॉट्स व्हाट्स एप चैट के थे. इन स्क्रीनशॉट्स में जेएनयू में हुए ह’म’ले के बाद खुशियाँ मनाई जा रही थी और कुछ स्क्रीनशॉट्स में गेट पर इकठ्ठा होने को कहा जा रहा था. ऐसा ही एक व्हाट्स एप चैट स्क्रीनशॉट मशहूर जर्नलिस्ट बरखा दत्त ने शेयर किया. इस स्क्रीनशॉट में एक नंबर से मैसेज है – “JNU के सपोर्ट में लोग मेन गेट पर आ रहे हैं. वहां कुछ करना है?”

इस स्क्रीनशॉट में जिस नंबर से मैसेज आया वो नंबर कांग्रेस के लिए क्राउड फंडिंग वेबसाईट का है. जैसे ही मामला सोशल मीडिया पर सबके सामने आया कांग्रेस की तरफ से इस वेबसाईट को अनपब्लिश कर दिया गया. लेकिन तब तक लोगों को सच्चाई का पता चल चूका था. स्क्रीनशॉट वायरल हो चुके थे और कांग्रेस पर सवाल उठने लगे.

अब तक भाजपा और ABVP पर हिंसा का आरोप लगाने वाली कांग्रेस खुद को फंसता देख डिफेंसिव मोड में आ गई और सफाई देने लगी. कांगेस ने सफाई देते हुए ट्वीट किया, “कांग्रेस की सोशल मीडिया टीम ने चुनाव के वक़्त क्राउड फंडिंग के लिए कई लोकल वेंडर्स को हायर किया था. जो नंबर वायरल हो रहा है वो उन्ही वेंडर्स में से एक का है और अब वो कांग्रेस के साथ कम नहीं करते.”

कांग्रेस का सफाई आना ही अपने आप में इस बात का सबूत है कि इस पुरे काण्ड का लिंक कांग्रेस से कहीं न कहीं जुड़ा हुआ है. लेकिन बात यहीं ख़त्म नहीं हुई.

सोशल मीडिया पर कांग्रेस एक्सपोज होने लगी तो वो शख्स, जिसका नंबर वायरल हुआ वो सामने आया और अब उसने सफाई दी कि इस नंबर से कांग्रेस का कुछ लेना देना नहीं है. आनंद मंगलाने ने बताया कि वो दो साल पहले कांग्रेस से जुड़ा हुआ था. जब वो कांग्रेस के लिए क्राउड फंडिंग मैनेज करता था. फिर उसने एक ऐसी कहानी बनायीं जो किसी बॉलीवुड फिल्म में खूब चलेगी. उसने बताया कि वो जानबूझ कर उस व्हाट्स एप ग्रुप में घुसा था ताकि वो पूरा प्लान जान सके. है ना ये फ़िल्मी कहानी. बिलकुल आलिया भट्ट की राजी और जॉन अब्राहम की RAW टाइप कहानी, जो दुश्मन देश में घुस कर उसके प्लान का पता लगाता है. पुलिस ने जांच शुरू कर दी है. लेकिन अनजाने में ही बरखा दत्त ने कांग्रेस को एक्सपोज कर दिया.