जेडीयू ने आरजेडी के M-Y समीकरण को देखते हुए इस बार पहले चरण के चुनाव के लिए ऐसे तैयार की अपने उम्मीदवारों की लिस्ट

बिहार में विधानसभा चुनावो की तारी’खों का ऐ’लान हो चुका है. जिसके साथ ही आ’रोप प्रत्या’रोप का सिलसिला भी जारी है. वही बिहार विधानसभा चुनावो को देखते हुए बीजेपी ने भी अपनी क’मर क’स ली है. इतना ही नहीं चुनावो से पहले नेताओं का दल बदलने के साथ साथ कुछ लोग राजनीति में भी कदम रख रहे हैं. दूसरी तरफ पहले चरण के चुनाव के लिए जेडीयू नें अपने नेताओं को पार्टी सिंबल कल दे दिया है.

जेडीयू ने भी बिहार की नब्ज को ट’टो’ल’ते हुआ अपने नेताओं को मैदान में उतारा है. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए पहले चरण की सीटों के लिए जिन उम्मीदवारों को सिंबल दिया है, उनमें सबसे अधिक करीब एक दर्जन अति पिछड़े हैं. इसके साथ ही सवर्णों, दलितों और पिछड़ों सहित अन्य जातियों की भी भागीदारी संतुलित रखने की कोशिश की गयी है.

इस बार जो जेडीयू ने अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की .है उसमें इस बार दो महिला भी शामिल हैं. जिसमें की एक मुस्लिम है और दूसरी दलित वर्ग से है. इस बार पार्टी ने दागी नेताओं से किनारा कर लिया है और उनके टिकट का’ट दिये हैं. इसी क्रम में राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि ‘28 अक्तूबर को होने वाले पहले चरण के चुनाव के लिए जदयू ने टिकट बांट’ने में सामाजिक समीकरण का भरपूर ख्याल रखा है. अति पिछड़ों और पिछड़ों की आबादी को देखते हुए सबसे अधिक टिकट इन्हीं वर्गों को दीये गये हैं.’

इतना ही नही जेडीयू नें राजद के एमवाइ के समीकरण का गणित बिगाड़ने के लिए इस बार जेडीयू ने आधा दर्जन से अधिक उम्मीदवार यादव को बनाया है. अब देखना है की ये फॉर्मूला कितना कारगर साबित होता है.

Related Articles