जाया प्रदा बीजेपी में हुई शामिल, इस नेता से है उनकी टक्कर

362

जैसे जैसे चुनाव नज़दीक आ रहा है वैसे वैसे उमीदवारों की घोषणा होती जा रही है. इसी बीच बॉलिवुड की चर्चित अभिनेत्री रहीं जया प्रदा भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गईं है । बीजेपी में एंट्री के साथ ही अब जया प्रदा रामपुर लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान के खिलाफ चुनाव मैदान में भी उतर सकती हैं।

आपको बता दें कि जया प्रदा को रामपुर से वर्ष 2004 में समाजवादी पार्टी से कांग्रेस की बेगम नूर बानो के खिलाफ चुनावी मैदान में उतारा गया था। यहां पर जया ने जीत हासिल की थी।
बीजेपी में शामिल होने के बाद जया प्रदा ने कहा, ‘मुझे मोदीजी के नेतृत्व में काम करने का मौका मिल रहा है, ये मेरे लिए सौभाग्य की बात है। मैं अपने जीवन का हर पल समर्पित करते हुए बीजेपी के लिए काम करूंगी। यह मेरी जिंदगी का सबसे अहम पल है।’

हालांकि समाजवादी पार्टी से आजम खान खुद रामपुर से लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं। आजम और जया प्रदा के बीच की आपसी रंजिश किसी से भी छिपी नहीं है। इसलिए इनको लेकर बातें तो बनते रहती है. अब यही देख लीजिये की लोग जया के चुनाव लड़ने की संभावना को सियासी दुश्मनी में बदला लेने के तौर पर देख रहे हैं
वैसे बीजेपी के सूत्रों ने पहले ही दावा किया था कि सोमवार को वह बीजेपी में एंट्री करेंगी और रामपुर से कैंडिडेट भी घोषित की जा सकती हैं। समाजवादी पार्टी में रहते आजम खान ने अमर सिंह के कहने पर रामपुर से 2004 का लोकसभा चुनाव जया प्रदा को लड़ाकर जिताया, लेकिन दोनों की सियासी दोस्ती जल्द दुश्मनी में बदल गई।

बहरहाल रामपुर सीट पर चुनाव इस बार काफी दिलचस्प माना जा रहा है। भाजपा ने 2014 में नेपाल सिंह को रामपुर से लोकसभा का टिकट दिया था। नेपाल सिंह ने चुनाव में समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खां के प्रत्याशी नसीर खां को नकदीकी मुकाबले में हराया था। बसपा के साथ गठबंधन करके समाजवादी पार्टी ने भी अब रामपुर से आजम खां को मैदान में उतार दिया है। आजम खां पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ने अब मैदान में उतरे हैं।

वैसे हम आपको बताते है क्या है मामला जाया प्रदा और आजम खान के आपसी रंजिश का
आजम खां और जया प्रदा के बीच की नोक-झोंक काफी पुरानी और गहरी है। जब अमर सिंह समाजवादी पार्टी में प्रभाव रखते थे तब जया प्रदा का पार्टी में बोलबाला हुआ करता था। जया प्रदा 2004 और 2009 में समाजवादी पार्टी की टिकट पर रामपुर से सांसद भी रह चुकी हैं। 2009 में आजम खां के तमाम विरोध के बावजूद भी मुलायम सिंह यादव ने जया प्रदा को रामपुर से चुनाव लड़वाया था। इसमें भी जया प्रदा ने जीत दर्ज की थी।

लेकिन उसके बाद आजम और जया प्रदा के बीच जमकर नोक-झोंक जारी रही। आजम खां और उनके समर्थक जहां जया प्रदा को ‘नचनिया’ और ‘घुंघरू वाली’ कहते थे वहीं जया प्रदा चुनावी सभाओं में आजम खां को भैया कहती थीं। चुनाव के दौरान आजम खां और उनके समर्थकों ने जया की फिल्मों के INTIMATE सीन्स के पोस्टर तक पूरे शहर में लगाए।

फिर भी जया प्रदा वह चुनाव जीतने में कामयाब रहीं। इसके बाद अमर सिंह के समाजवादी पार्टी के छोड़ देने के बाद जया प्रदा ने भी पार्टी छोड़ दी थी। जया प्रदान ने 2014 के चुनाव में बिजनौर से राष्ट्रीय लोकदल के टिकट पर किस्मत आजमाई लेकिन वह चुनाव हार गई थीं।
लेकिन अब उन्होंने बीजेपी ज्वाइन कर ली है और ऐसा कहा जा रहाहै की वह रामपुर से चुनाव लड़ेंगी