गिरिराज सिंह पर किया जावेद अख्तर ने पलटवार, की ये मांग

1697

अभी कुछ दिन पहले AIMIM नेता वारिस पठान ने एक भड़’काऊ बयान दिया था. वारिस पठान ने कहा था कि 15 करोड़,100 करोड़ पर भारी है. वारिस पठान ने ये भी कहा, ‘ईं’ट का जवाब प’त्‍थर से देना हमने सीख लिया है. वारिस पठान ने कहा मगर हम सबको इ’कट्ठा होकर एक साथ चलना होगा. उन्होने आगे कहा कि अगर आजादी नहीं दी जाती तो हमें छीननी पड़ती. वारिस पठान ने विप’क्षी पार्टीयों पर तं’ज कसते हुए कहा कि वो कहते हैं कि हमने औरतों को आगे रखा है. लेकिन अभी तो केवल घर से शेरनियां बाहर निकली हैं. तो तुम्‍हारे पसीने छूट गए तुम समझ सकते हो कि अगर हम सब एक साथ आ गए तो क्‍या होगा.  15 करोड़ (मुस्लिम) हैं लेकिन 100 (करोड़ हिंदू) के ऊपर भारी हैं. ये याद रख लेना.

मैं उन लोगों से जानना चाहता हूं.जो लोग संविधान की रक्षा की बात करते थे. अगर आज मोदी देश के लिए कोई बड़ा फैसला ले रहें है. तो इन्हे इतनी दिक्कत क्यों हो रही है. अब ये वही लोग है जो भारत देश को बांटने की बात करते है. अब देश का संविधान ख’तरे में नही है क्या? ये दोहरे चरित्र के लोग देश की जनता के सामने अपने आपको किस रुप में दिखाना चाहते हैं.

बीजेपी के कद्दावर नेता और बेगुसराय से सासंद और केंद्रीय पशुपालन मंत्री गिरीराज सिंह ने भी पलटवार किया था. उन्होने कहा था कि आजादी के समय पाकिस्तान बनने के बाद सभी मुसलमानों को वहां ना भेज पाने की कीमत आज भारत चुका रहा है. उन्होंने कहा , ‘जब हमारे पूर्वज ब्रिटिश शासन से आजादी के लिए लड़ रहे थे, जिन्ना एक इस्ला’मी देश बनाने पर जोर दे रहे थे. हालांकि, हमारे पूर्वजों ने एक गलती कर दी. अगर उन्होंने हमारे सभी मुस्लिम भाइयों को पाकिस्तान भेज दिया होता और हिंदुओं को यहां ले आए होते, तो ऐसे कानून (सीएए) की जरूरत हीं नहीं होती. यह नहीं हुआ और हमने इसके लिए भारी कीमत चुकाई है.’

आज गीतकार जावेद अख्तर ने भड़’काऊ बयान देने वाले ऑल इंड़िया मज’लिस-ए-इत्ते’हा’गिल मस्लि’मीन के नेता वारिस पठान के खि’लाफ एफ’आई’आर द’र्ज होने पर खुशी जाहिर की है. जावेद अख्तर ने केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के खि’लाफ भी एफ’आई’आर की मांग की है, जिन्होंने बंटवारे के बाद सभी मुसलमानों को पाक नहीं भेजने को गलती करार दिया था.बात करें जावेद अख्तर की तो उनको भी भाजपा से दिक्कत ही रही है. जब से सीएए आया है. तब से वो भी इसका खुलकर विरोध करते नज़र आयें है. शायद यही कारण है कि आज वो भाजपा के मंत्री गिरिराज सिंह की गिरफ्तारी की मांग कर रहें हैं.