जिस फ्लाइट से श्रीनगर गए गुलाम नबी आजाद, उसी फ्लाइट से वापस भेज दिए गए

1204

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाए जाने का कांग्रेस पार्टी ने जमकर विरोध किया था. राज्यसभा में विपक्ष के नेता और कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद आज पार्टी के नेताओं के साथ बैठक करने के लिए श्रीनगर पहुंचे. लेकिन प्रशासन ने उन्हें आगे नहीं जाने दिया और श्रीनगर एयरपोर्ट पर ही रोक दिया. गुलाम नबी आजाद को अब विस्तारा की अगली फ्लाइट से वापस दिल्ली भेजा जाएगा.गुलाम नबी आजाद को श्रीनगर में स्थानीय कांग्रेस नेताओं के साथ कश्मीर के हालात पर बैठक करनी थी. राज्यसभा में विपक्ष के नेता आजाद ने शोपियां में स्थानीय लोगों के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की मुलाकात पर विवादित बयान दिया था. भाजपा ने आजाद से अपने बयान के लिए माफी मांगने के लिए कहा है. गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि ‘पैसे लेकर आप किसी को भी अपने साथ ला सकते हो।’ जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने के बाद आजाद पहली बार श्रीनगर पहुंचे हैं.

गुलाम नबी आजाद को दोपहर 3.30 बजे की फ्लाइट से वापस दिल्ली भेजा जा रहा है. उनके साथ जम्मू-कश्मीर कांग्रेस के अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर भी आज सुबह ही श्रीनगर पहुंचे थे. गौरतलब है कि गुलाम नबी आजाद ने राज्यसभा में भी मोदी सरकार का अनुच्छेद 370 को हटाने के लिए विरोध किया था और जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाने के फैसले को गैर संवैधानिक बता दिया था.

कांग्रेस पार्टी ने लोकसभा और राज्यसभा में मोदी सरकार के फैसले के विरोध में वोट किया था. कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी मोदी सरकार के फैसले की ट्वीट कर आलोचना भी की थी और उनके इस फैसले को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताया था.घाटी में अभी भी धारा 144 लगी हुई है और सुरक्षाबलों की भारी संख्या में तैनाती की गई है. जम्मू, श्रीनगर और लद्दाख तीनों ही इलाकों में धारा 144 लगी हुई है, लेकिन लोगों को जरूरत का सामान लेने के लिए बाजार में जाने की छूट दी गई है. सुरक्षा के लिए घाटी में अभी भी पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, सज्जाद लोन समेत कई नेताओं को हिरासत में ही रखा गया है.