बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की नेताओं को दो टूक, कहा कोई भी नेता कोरोना को न दें..

देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया इस समय कोरोना से जूझ रही है. दुनियाभर में हर दिन सैंकड़ों की संख्या में लोग इससे संक्रमित होते जा रहे हैं. सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद भी हालात में कोई सुधार नहीं हो पा रहा है और लगातार मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है. भारत में मोदी सरकार ने 21 दिनों के लिए लॉकडाउन किया गया है और लोगों से लगातार अपील की जा रही है कि वह अपने घर में ही रहें.

जानकारी के लिए बता दें इस भयंकर वायरस से बचने का एक ही उपाय बताया जा रहा है कि लोग एक दूसरे से कम मिलें और घर में ही रहें. जिससे ये कम से कम लोगों में ही फैले लेकिन जनता मानने को तैयार नहीं है. सरकार ने ट्रेन बस यात्रायें सब बंद कर रखी हैं जिससे लोग एक दूसरे के संपर्क में न आ पायें. वहीं इसी बीच तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों ने भारत में कोरोना के मरीजों की संख्या में जबरदस्त इजाफा किया है.

तब्लीगी जमात के लोगों से जुड़े अब तक 400 मामले कोरोना के सामने आए हैं. जिनमें से 15 लोगों की मौत भी हो चुकी है. ये सभी लोग निजामुद्दीन के मरकज के संपर्क में थे. वहीं इसी बीच भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी के नेताओं को दो टूक बात कही है. उन्होंने अनुरोध करते हुए पार्टी के नेताओं से अनुरोध किया है कि वे लोग ऐसा कोई बयान न दें जिससे कोरोना वायरस के उपजे हालात को साम्प्रदायिक रंग दिया जा सके.

गौरतलब है कि सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार गुरूवार की शाम राष्ट्रीय पदाधिकारियों के साथ एक बैठक में जेपी नड्डा ने कहा है कि पार्टी के किसी भी नेता को कोई भी भड़काऊ या विभाजनकारी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए. उन्होंने कहा है कि देश में इस समय जो हालात हैं उसके चलते प्रधानमंत्री जी के प्रयासों का समर्थन करना चाहिए. बैठक में शामिल एक नेता ने बताया है कि “पहले से ही एक दिशा-निर्देश मिला हुआ था कि हमारे पास राष्ट्र का नेतृत्व करने की एक बड़ी जिम्मेदारी है। वायरस और बीमारी ने दुनिया भर में सभी को सभी धर्मों के प्रति संवेदनशील बना दिया है, किसी को भी ऐसा कोई बयान या टिप्पणी जारी नहीं करनी चाहिए जो उत्तेजक हो।”