क्या वाकई में खो गई है राफेल सौदे से जुडी फाइल ?

385

अगर आप अखबार पढ़ने और टीवी देखने के शौकीन है। तो आपने मीडिया में चल रही उन ख़बरो को तो देखा ही होगा जिनमे कहा जा रहा था कि राफेल सौदे से जुड़ी फाइल चोरी हो गई हैं। विपक्ष ने भी इसी मुद्दे को लेकर सत्ता पक्ष पर खूब थू थू की। कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने तो ट्विटर को ही हथियार बनाकर मोदी सरकार के खिलाफ जंग लड़नी शुरू कर दी। इसके अलावा मुद्दों की तलाश में बैठे कांग्रेस मुखिया राहुल गांधी अखिलेश यादव और मायावती ने भी सरकार के खिलाफ हमले तेज़ कर दिए।

अभी हाल ही रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी अपने ट्विटर अकॉउंट से दो पोस्ट करते हुए लिखा है कि अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया है कि राफेल सौदे से जुड़े दस्तावेज़ चोरी नही हुए है,उन्होंने जो कुछ कोर्ट में कहा उसका मतलब था कि अर्जीकर्ता यानी पिटीशनर ने अपनी अर्जी में असल दस्तावेज़ की फोटोकॉपी इस्तेमाल की थी जिन्हें सरकार खुफिया दस्तावेज़ मानती है।

अब उनका इतना पोस्ट करना था कि तगड़ी तरह एक्टिव बैठे रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि जिस सरकार के इजी को रक्षा मंत्रालय की फाइल चोरी और फ़ोटो कॉपी का अंतर ना पता हो,वो देश के सुरक्षित हाथों में होने के दावे कर रहें है। वाह रे देश को रोज बरगलाने वाले चौकीदार।

ख़ैर, ये ट्वीट वाला खेल तो सही है इस में सभी को पारंगत होना भी चहिए।  मेरे तो समझ नही आता कि हमारे देश के अटॉर्नी जनरल इतनी बड़ी गलती कैसे कर सकते है ??  उन्हें तो सधी जुबान में सुप्रीम कोर्ट के भीतर बताना चहिए था कि भैया,ओरिजनल फाइल चोरी नही बल्कि उसकी फ़ोटो कॉपी लीक कराई गई है ।


पर चलो हो गई गलती पर एक बात फिर भी समझ नही आती की ना जाने केके वेणुगोपाल कैसे भूल सकते हैं कि हमारे भारत में कुछ अनपढ़ नेता भी ऐसे है  जो भले पढ़े लिखे भले ना हो पर रक्षा मामलों में भी ऐसे एक्टिव दिखते हैं जैसे डिफेंस मामलों में पीएचडी करके सीधे  धरती पर लैंड किए हों,इसलिए उन्हें बोलते हुए थोड़ी तो सतर्कता बरतनी थी ना ।  वो ना जाने कैसे भूल सकते है कि उनके एक गलत शब्द तिल का ताड़ बन सकता है, वो कैसे भूल सकते हैं कि यहां ऐसे लोगो की भरमार है जो टुकड़े टुकड़े गैंग की गलती को फर्जी बात बताकर छुपा सकते हैं पर आपके बोले एक गलत शब्द को ऐसे उड़ा दिया जाएगा जिससे दुनिया को लगेगा कि इस गवर्मनेट जितनी चोटीईईई सरकार आज तक संसार के किसी कोने में आई ही नही।

केके साहब कैसे भूल गए कि कल तक महिला सशक्तिकरण की बात करने वाले लोग आपके एक गलत शब्द के चलते रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को चोर बताकर गालियां देने में जुट जाएंगे।

ना जाने कैसे अटॉर्नी जनरल साहब भूल गए कि आपके बोले एक गलत शब्द से देश में चौकीदार चोर बन जाएगा। कोयला,2 जी स्पेक्ट्रम,कॉमनवेल्थ गेम्स जैसे घोटालों में अरबो कमाकर फिलहाल ईमानदारी का झंडा बुलंद करने वाले लोग ही सरकार को चोर साबित करने में जुट जाएंगे।
मेरे समझ मे बस यही नही आता कि कैसे केके साहब भूल गए कि पीएम को गालियां देकर भले ही किसी का भले कुछ ना बिगड़े पर जिस देश में सरकार को भगवान की तरह माना जाता हो अगर उसकी तरफ से गलती से भी कोई कोई गलत शब्द बोला गया तो खूब रोना धोना होएगा। खूब चूड़ियां तोड़ी जाएगी,खूब विलाप होगा,जमके धरने प्रदर्शन होंगे। आख़िर एक सरकार इतनी बड़ी गलती कर भी कैसे सकती है 
हम तो यही कहेंगे कि अटॉर्नी जनरल को सोच समझके बोलना चहिये था क्योकि हम भले ही कितने भी कांड कर ले पर सरकार से हुई एक मामूली शब्द की गलती कोई भी बिल्कुल बर्दास्त नही करेंगे क्योकि ये हम सबके उसूलों के खिलाफ होगा और हम ऐसा हरगिज़ नही होने देंगे।