क्या वाकई डोनाल्ड ट्रंप ने नरेंद्र मोदी से सीखा है सरकार चलाना?

501

नवभारत टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार..यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने हाल में पश्चिम बंगाल के पुरुलिया जिले में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लेकर दावा किया की, डोनाल्ड ट्रंप ने भी चुनाव से पहले कहा था कि वह अमेरिका में वैसे ही सरकार चलाएंगे जैसे भारत में नरेंद्र मोदी चला रहे है..लेकिन बवाल तो तब मच गया जब पूर्व संपादक और निर्देशक विनोद कापड़ी ने नवभारत टाइम्स के इस लेख को ट्वीट किया और कैप्शन दिया ‘खुला है झूठ का बाजार आओ सच बोलें.’..ये दोनों पोस्ट आप बखुबी देख सकते है.

कापड़ी की पोस्ट को लेकर सोशल मीडिया पर दो तरह की प्रतिक्रियाएं आने लगीं. एक गुट ऐसा था जो योगी के दावे को भरोसे लायक नहीं मान रहा, वहीं दूसरा गुट इसे सच मान रहा था…कुछ इंटरनेट यूजर्स उस वक्त काफी उलझन में पड़ गए… कि दोनों में से सही कौन है और गलत कौन..इसलिए हमने इस खबर की पड़ताल की…तो पड़ताल में योगी के दावे सच साबित हुए..ट्रंप ने वास्तव में 2016 में अमेरिकी चुनाव से पहले कहा था कि वो गवर्नेंस के मुद्दे पर मोदी के कुछ कदमों को अपनाना चाहेंगे. देखिये ये वीडियो

हैरत की बात यह है कि कापड़ी की पोस्ट को सैकड़ों की संख्या में लोगों ने पसंद किया और रीट्वीट किया… और दुख की बात ये  कि विनोद कापड़ी आए दिन ऐसे झुठ फैलाते रहते है..और दूसरों पर झूठ बोलने का दावा करते है..वो बिना किसी पड़ताल के लोगों को गुमराह करते रहते है..लोगों को गलत मैसेज पहुंचाते है..

नवभारत टाइम्स के अलावा न्यूज एजेंसी एएनआई ने भी योगी के बयान वाली स्टोरी को कवर किया. साथ ही शीर्षक दिया- ‘ट्रंप ने मोदी के गवर्नेंस को पसंद किया, हमने 2016 में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान मोदी और ट्रंप को लेकर प्रकाशित अंतरराष्ट्रीय मीडिया के लेखों को खंगाला.. तो सच सामने आया…

द वाशिंगटन पोस्ट ने भी अमेरिकी चुनाव के दौरान ट्रंप पर मोदी के प्रभाव का उल्लेख किया. वेबसाइट के अनुसार ट्रंप ने मोदी के बारे में कहा, ही इस अ ‘ग्रेट मैन! मैं उनके कार्यों की सराहना करता हूं. “

तो यह है विनोद कापडी के बस ट्वीट के पीछे का सच… ऐसा पहली बार नहीं हुआ कि विनोद कापडी के झूठ को पकड़ा गया है.. इससे पहले भी पीएम मोदी और बीजेपी के खिलाफ बोले गए उनके झूठ का पर्दाफाश हुआ है… और तब भी वो बार बार ऐसा करते हैं.. अब इसके पीछे उनका उद्देश्य क्या है.. वो तो समझ ही गए होंगे.