ट्रेन के अंदर कोरोना का’ल में चल रहा है एक ऐसा मार्ट, जानिए क्या-क्या मिल रहा है उस मार्ट में ?

377

कोरोना सं’कट से उबरने के लिए केंद्र सरकार ने कई कदम उठाये हैं. केंद्र सरकार ने प्रवासी मजदूरों के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई. उसके बाद केंद्र सरकार ने आम जनता के लिए भी अब ट्रेन चलाने का ऐलान कर दिया हैं. 1 जून से 200 के करीब ट्रेन चलेंगी. लेकिन इस वक़्त में चलने वाली टट्रेनों के अंदर नजारा बदला बदला सा नजर आएगा.

रेलवे मंत्रालय ने पहले ही बता दिया था कि इस बार ट्रेन में पहले की तरह अब खाना पीना नहीं मिलेगा. पहले ही ये कह दिया गया था कि अब ट्रेन में रेडी टू इट मटेरियल दिया जायेगा. ट्रेन के अंदर चादर तकिया कुछ भी नही देगा और ट्रेन के अंदर बहुत कुछ बदला हुआ नजर आएगा.  आम आदमी के घर पर रेडी टू इट मटेरियल का उपयोग नहीं होता हैं. इसलिए ट्रेन में इस तरह की सुविधा को देख कर लोग आकर्षित हो गये. लोगों ने सोचा की जहाँ भी हम जहाँ जा रहें हैं वहां पर 14 दिनों के लिए क्वरेंटाइन में रहेना पड़ेगा इसलिए ये वहां पर काम आयेगा.

रेलवे ने 15 जोड़ी ट्रेन चलाई है. जिसमे ट्रेन के अंदर कैटरिंग व्यवस्था संभालने वाली सरकारी कंपनी इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन (IRCTC) के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक संक्रमण से बचाव के सभी इंतजाम किये गए हैं. इसलिए इन 15 जोड़ी राजधानी स्पेशल में चाय और कॉफी के इंस्टेंट शैसे बेचे जा रहे हैं. जिसको गरम पानी में मिलाई और चाय तैयार उसके बाद आप आराम से पी लीजिये. इस तरह खाने पीने के कई आइटम्स ट्रेन के अंदर मिल रहें हैं. जैसे कि कप्पा नूडल्स, उपमा, पोहा, दाल-चावल आदि के रेडी टू इट पैकेज की सप्लायी की जाती हैं. जिन्हें यह खाना हो, उनके सामने पैकेट फाड़ा जाता है, उसमें गर्म पानी मिलाया जाता है और कुछ मिनट के बाद वह खाने के लिए तैयार हो जाता हैं.

ट्रेन के अंदर जो खाना पीना मिल रहा हैं उसको लेकर लोगों की सोच ये है कि वो ज्यादा से ज्यादा पैकेट लें लें ताकि वो जहाँ पर जा आरहें हैं और वहां पर उनको 14 दिनों के क्वरेंटाइन किया जायेगा तो वहां पर उपयोग किया जा सकता हैं.